logo
दीपावली की जगमग के बीच रामभक्तों को लेकर रवाना हुई 'श्री रामायण यात्रा' ट्रेन
प्लेटफॉर्म पर राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान के कटआउट देखकर लोग नतमस्तक हो गए
 
इस ट्रेन से लोगों को श्रीराम से जुड़े तीर्थस्थलों के दर्शनलाभ का अवसर मिलेगा, साथ ही पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। कोरोना के काबू में आने और दीपावली की जगमग के बीच प्रभु श्रीराम के भक्तों के लिए शुभ समाचार है। रविवार शाम को आईआरसीटीसी की एसी टूरिस्ट ट्रेन यहां सफदरजंग रेलवे स्टेशन से रामायण यात्रा सर्किट के लिए रवाना हुई। ट्रेन में 132 पर्यटक सवार थे। ट्रेन का नाम ‘श्री रामायण यात्रा’ है। यह भगवान श्रीराम से जुड़े तीर्थस्थलों के दर्शन कराने के लिए निर्धारित है। इसके जरिए 16 रातों और 17 दिनों की यात्रा कर आध्यात्मिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

इस मौके पर रेलवे स्टेशन की सजावट की गई। इसका मुख्य द्वार फूलों से आकर्षक बनाया गया। वहीं, प्लेटफॉर्म पर राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान के कटआउट देखकर लोग नतमस्तक हो गए। इस दौरान लोग कोरोना संबंधी सावधानियों का पालन करते नजर आए।

उल्लेखनीय है कि इस ट्रेन से लोगों को श्रीराम से जुड़े तीर्थस्थलों के दर्शनलाभ का अवसर मिलेगा, साथ ही पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। कोरोना काल में पर्यटन कारोबार को बड़ा झटका लगा था। अब टीकाकरण से स्थिति में सुधार आने के साथ लोगों में खासा उत्साह है। उम्मीद जताई जा रही है कि यह ट्रेन घरेलू पर्यटन को रफ्तार देगी।

जानकारी के अनुसार, इसकी सफलता से उत्साहित आईआरसीटीसी इस तर्ज पर अन्य ट्रेन शुरू करने की योजना पर काम कर रहा है। चूंकि 'श्री रामायण यात्रा' पर्यटक ट्रेनों के सबसे ज्यादा यात्रा कार्यक्रम के तौर पर पहचान बना रही है। ऐसे में अगले महीने चार अन्य रेलगाड़ियां भी रवाना की जाएंगी। 12 नवंबर से नई यात्रा की योजना है। 

बता दें कि एक अन्य पैकेज में 12 रात व 13 दिन की श्री रामायण यात्रा एक्सप्रेस-मदुरै भी है। यह 16 नवंबर से रवाना होगी। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, इसमें दक्षिण भारत के तीर्थ स्थलों पर ज्यादा जोर रहेगा। स्लीपर श्रेणी कोच युक्त यह ट्रेन हम्पी, नासिक, चित्रकूट जैसे तीर्थस्थलों को यात्रा कार्यक्रम में शामिल करेगी। 

इसके अलावा श्री रामायण यात्रा एक्सप्रेस-श्रीगंगानगर का 16 रात/17 दिन का पैकेज है। यह ट्रेन 25 नवंबर को रवाना होगी। इसके लिए दो पैकेज का उल्लेख किया गया है। ट्रेन एसी प्रथम व द्वितीय श्रेणी की सीटों से युक्त है। इसके जरिए श्रद्धालु अयोध्या, नंदीग्राम, जनकपुर, सीतामढ़ी, काशी, प्रयाग जैसे तीर्थस्थलों के दर्शन कर सकेंगे।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए