तीन तलाक का विरोध करने वाली निदा और फरहत के खिलाफ फतवा, चोटी काटने पर रखा इनाम

287
Nida Khan
Nida Khan

फतवे में किसी न्यायालय की तरह आदेश दिया गया है कि ये दोनों महिलाएं तीन दिन के अंदर देश छोड़कर चली जाएं।

बरेली। मुस्लिम समाज में तीन तलाक व हलाला जैसे रिवाजों के खिलाफ ​आवाज बुलंद करने वाली निदा खान और फरहत नकवी के खिलाफ फतवा आया है। इस फतवे में दोनों महिलाओं को नुकसान पहुंचाने के लिए कहा गया है। विभिन्न रिपोर्ट्स के अनुसार, फतवे में कहा गया है कि निदा और फरहत की चोटी काट दी जाए। यही नहीं, फतवा देने वाले ने इसके लिए इनाम का ऐलान किया है।

फतवे में कहा गया है कि जो भी निदा और फरहत को पत्थर मारेगा, उसे बतौर इनाम 11,786 रुपए दिए जाएंगे। इस इनाम का ऐलान मुईन सिद्दीकी नूरी नामक शख्स ने किया है जो एक संस्था का अध्यक्ष बताया जा रहा है। फतवे में किसी न्यायालय की तरह आदेश दिया गया है कि ये दोनों महिलाएं तीन दिन के अंदर देश छोड़कर चली जाएं।

इसके अलावा ऐसे शब्दों का प्रयोग किया गया है जिसे सभ्य समाज में बोलना अशिष्टता समझा जाता है। इस फतवे के बाद तीन तलाक और हलाला पर बहस तेज हो गई है। लोगों का कहना है कि जब उच्चतम न्यायालय तीन तलाक को नकार चुका है, तब भी ऐसे लोग महिलाओं के खिलाफ विचित्र फतवे देकर इनाम का ऐलान कर रहे हैं। अगर जल्द ही सरकार ने इस पर कोई सख्त कानून न बनाया तो न जाने देश में क्या-क्या होगा।

एक अन्य यूजर ने लिखा है कि इस किस्म के फतवे देने वालों से महिलाओं की सुरक्षा खतरे में है। इन्होंने साबित कर दिया कि तीन तलाक देने वालों को देश में कठोर दंड दिया जाना जरूरी है। यही नहीं, जो फतवे देकर महिलाओं को नुकसान पहुंचाने की बात करते हैं, उन्हें जेल भेज देना चाहिए। जब तक ऐसे लोगों के खिलाफ कठोर रवैया नहीं अपनाया जाएगा, ऐसी बयानबाजी जारी रहेगी।

पिछले दिनों बरेली की एक अदालत ने तीन तलाक मामले पर निदा खान को राहत दी थी। अब उनके शौहर पर घरेलू हिंसा का मामला चलेगा। मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक का विरोध कर रही हैं, लेकिन कुछ धर्मगुरु इस रिवाज को जारी रखने के पक्ष में हैं। इस विषय पर लाइव डिबेट के दौरान मौलाना और महिला वकील में मारपीट तक हो चुकी है।