हैदराबाद। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सोमवार को कहा कि संवैधानिक पद पर रहने के बावजूद वह दोनों तेलुगू राज्यों के विकास में मदद करेंगे। तेलंगाना सरकार द्वारा उन्हें यहां नागरिक सम्मान दिया गया। उपराष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार हैदराबाद आए नायडू ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चन्द्रशेखर राव और आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चन्द्रबाबू नायडू को राज्यों के विकास और विभिन्न मुद्दों को सुलझाने के लिए साथ-साथ काम करने को कहा। उन्होंने कहा कि दोनों राज्यों को तेलुगू भाषा को पाठ्यक्रम और आधिकारिक तौर पर अपनाना चाहिए ताकि इस भाषा की विशिष्टता बचाई जा सके। देश के विकास और ज्यादा कार्यशील संसद एवं राज्य विधायिका की जरूरत पर जोर देते हुए उन्होंने राजनीतिक पार्टियों से चुनावों में किए गए वादों को पूरा करने के अलावा वितरण कार्यप्रणाली मजबूत करने को कहा। नायडू ने कहा,‘४० वर्ष पूर्व मेरा राजनीतिक कैरियर हैदराबाद से शुरू हुआ था और उपराष्ट्रपति के तौर पर मैंने अपनी आधिकारिक यात्रा भी यहीं से शुरू की है। आजादी के ७० वर्ष पूरे होने के बावजूद देश में अच्छी शासन व्यवस्था की जरूरत को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि समाज के गरीब से गरीब व्यक्ति की स्थिति में सुधार आना चाहिए।