पटना। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता केशव प्रसाद मौर्य ने बिहार में सत्तारू़ढ महागठबंधन सरकार को अपवित्र और असफल गठबंधन करार देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को रविवार को चुनौती दी कि यदि उन्हें (नीतीश) प्रदेश में किए गए अपने बेहतर कार्य पर भरोसा है तो विधानसभा को भंग कर चुनाव कराए। मौर्य ने यहां केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार के तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर पार्टी की ओर से आयोजित ’’सबका साथ-सबका विकास’’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार में सत्तारू़ढ महागठबंधन की सरकार अबतक असफल साबित हो चुकी है जिसे उखा़ड फेंकने के लिए प्रदेश के लोग तैयार बैठे हैं। मुख्यमंत्री कुमार को यदि अपने किए गए बेहतर कार्य पर इतना ही भरोसा है तो उन्हें वर्ष २०२० की प्रतीक्षा नहीं कर तत्काल विधानसभा को भंग कर चुनाव मैदान में आना चाहिए। उप मुख्यमंत्री ने सत्तारू़ढ महागठबंधन को अपवित्र और असफल गठबंधन बताते हुए कहा कि जिस तरह से उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भाजपा को जीत मिली ठीक उसी तरह से बिहार में भी यदि चुनाव हुआ तो उनकी पार्टी आपार बहुमत से जीत दर्ज करेगी। केन्द्र प्रायोजित योजनाओं के लिए मिल रही राशि को नीतीश सरकार खर्च नहीं कर पा रही है। उन्होंने कहा कि ठीक इसी तरह की स्थिति उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) के कार्यकाल में बनी हुई थी। किसानों और नौजवानों की बेहतरी के लिए पैसे दिए जा रहे हैं जिसका बिहार सरकार उपयोग नहीं कर पा रही है। उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार की तरह ही उत्तर प्रदेश की तत्कालीन अखिलेश सरकार की भी कार्यशैली थी। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री देश के सभी राज्यों का समान रूप से विकास करना चाहते हैं।