लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने यौन शोषण और बलात्कार के मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को न्यायालय द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद हरियाणा में भ़डकी हिंसा से निपटने में राज्य सरकार पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया और खट्टर सरकार को अविलम्ब बर्खास्त करने की मांग की है। मायावती ने शनिवार को यहां जारी एक बयान में कहा कि वोट की राजनीति करने के लिए हरियाणा की भाजपा सरकार के इस प्रकार के शर्मनाक सर्म्पण की जितनी भी निन्दा की जाए वह कम होगी।उन्होंने शुक्रवार की राज्यव्यापी हिंसा में करीब ३१ लोगों के मारे जाने पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि पूरे हरियाणा में जो हिंसा का तांडव हुआ उसके लिए केवल और केवल भाजपा की वोट बैंक की राजनीति और हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर सरकार की लापरवाही जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट के सख्त और स्पष्ट निर्देश के बावजूद कानून और व्यवस्था कायम रखने की जिम्मेदारी निभाने में पूरी तरह विफल रहने वाली ऐसी सरकार को तुरन्त बर्खास्त कर देना चाहिए, लेकिन ब़डे दुर्भाग्य की बात है कि केन्द्र की मोदी सरकार के साथ-साथ भाजपा का शीर्ष नेतृत्व भी इस प्रकार के गंभीर मामले में भी पूरी तरह से लापरवाह बना हुआ है। उन्होंने आरोप लगाया कि हरियाणा की भाजपा सरकार ने जिस प्रकार से सेना को कार्रवाई करने और भी़ड को नियंत्रित करने का अधिकार नहीं देकर उन्हें केवल फ्लैग मार्च ही करने को मजबूर किया, यह खासकर देश के सेना प्रमुख और मोदी सरकार के लिए सतर्क हो जाने की बात है।बसपा सुप्रीमो ने कहा कि इसके अलावा भाजपा के सांसद साक्षी महाराज के गुरमीत राम रहीम के समर्थन में और न्यायालय की अवमानना करने वाले बयान की जितनी भी सख्त निन्दा और भर्त्सना की जाए वह कम है।