मेडिकल उपकरण सांकेतिक तस्वीर
मेडिकल उपकरण सांकेतिक तस्वीर

पुणे/भाषा। देश में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों की बढ़ती संख्या के बीच महाराष्ट्र के पुणे से राहतभरी खबर आई है। यहां 14 दिनों की पृथक् अवधि में हालत गंभीर होने की वजह से जीवनरक्षक प्रणाली (वेंटिलेटर) पर रखी गई गई महिला संक्रमण मुक्त हो गई है।

भारती अस्पताल के डॉक्टर ने बताया कि महिला आंगनवाड़ी कार्यकर्ता है और उसे वेंटिलेटर से हटा दिया गया है एवं उसकी सेहत में सुधार हो रहा है।

उन्होंने बताया, ‘30 मार्च को मरीज को न्यूनतम जीवन रक्षा प्रणाली सहायता दी गई और अब वह बातचीत कर रही है। करीब आठ घंटे तक गले के रास्ते ऑक्सीजन दी गई लेकिन अब नाक के जरिए दी जा रही ऑक्सीजन से वह सांस ले रही है। उसकी हालत स्थिर है।

डॉक्टर ने बताया, ’14 दिनों की पृथक् अवधि के बाद लिए गए नमूनों की जांच में उसे संक्रमण मुक्त पाया गया।’ उल्लेखनीय है कि महिला का विदेश जाने का कोई इतिहास नहीं है और 16 मार्च को सांस लेने में परेशानी होने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

बाद में स्वाइन फ्लू की आशंका के चलते लार के नमूना पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु रोग संस्थान भेजा गया जहां पर उसके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। डॉक्टर के मुताबिक, महिला के परिवार के पांच अन्य सदस्य भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।