मुंबई/दक्षिण भारत। महानगर के अग्रीपाड़ा इलाके में स्थित वॉकहार्ट अस्पताल सोमवार को 26 नर्सों और तीन डॉक्टरों के कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए जाने के बाद सील कर दिया गया। बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने रविवार को अस्पताल को एक कन्टेनमेंट जोन घोषित कर दिया था।

बीएमसी के अतिरिक्त नगर आयुक्त (स्वास्थ्य) सुरेश काकानी ने कहा कि उन्होंने अस्पताल को सील कर दिया है और जब तक कर्मचारी कोरोनो वायरस परीक्षण में नेगेटिव नहीं पाए जाते, तब तक बाहर जाने की अनुमति नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘यह अस्पताल प्रशासन की त्रुटि है कि उन्होंने एहतियाती कदम नहीं उठाए, जिसके कारण लगभग 300 कर्मचारियों को क्वारंटाइन में रखा गया है। हमने यह जांच करने के लिए एक टीम भी गठित की है कि यहां से कितने लोगों के बीच वायरस फैला है।’

एक रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 पॉजिटिव पाई गईं नर्सों ने आरोप लगाया कि अस्पताल की लापरवाही के कारण संक्रमण अन्य कर्मचारियों में फैल गया। 20 मार्च को एक अन्य अस्पताल से दो संदिग्ध एवं कोरोना पॉजिटिव मरीजों को यहां लाया गया था। पुष्ट मामलों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था, जबकि संदिग्धों को सामान्य आईसीयू वार्ड में रखा गया था, जहां गैर-कोविड -19 रोगी भी भर्ती थे।

28 मार्च को, एक ही सामान्य आईसीयू वार्ड में काम करने वाली दो नर्सें कोविड-19 परीक्षण में पॉजिटिव पाई गईं। लेकिन जल्द ही, 10 नर्सें संक्रमित हो गईं और बाद में संक्रमण 26 नर्सों और तीन डॉक्टरों में फैल गया।