गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत
गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत

पणजी/भाषा। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने मंगलवार को कहा कि राज्य में पिछले 11 दिन में कोरोना वायरस के संक्रमण का कोई नया मामला सामने नहीं आया है और अगर आगे भी ऐसी स्थिति रही तो 17 अप्रैल तक तटीय राज्य को ‘ग्रीन जोन’ घोषित किया जा सकता है।

राज्य के दो जिलों में से एक साउथ गोवा को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय पहले ही ‘ग्रीन जोन’ (कोरोना वायरस का कोई मामला नहीं) घोषित कर चुका है।

गोवा में पहले मिले कोरोना वायरस संक्रमण के सात मामलों में से सभी उत्तरी गोवा जिले से हैं। इनमें से पांच व्यक्ति स्वस्थ हो चुके हैं और दो का इलाज चल रहा है। गोवा में चार अप्रैल से संक्रमण का कोई नया मामला सामने नहीं आया है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘साउथ गोवा जिले को पहले ही केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार ग्रीन जोन घोषित किया जा चुका है। अगर आगे संक्रमण का नया मामला नहीं आता है तो उत्तर जिला भी 17 अप्रैल तक ग्रीन जोन बन सकता है।’

उन्होंने कहा कि गोवा की सीमाओं पर भी सतर्कता बढ़ा दी गई है क्योंकि पड़ोसी जिले सिंधुदुर्ग (महाराष्ट्र) को ‘ऑरेंज जोन’ घोषित किया गया है जहां पूर्व में कोविड-19 के मामले सामने आ चुके हैं। इसके अलावा, कर्नाटक के बेलगावी में भी कोरोना वायरस के मामलों की खबर है।

गोवा ने आपात चिकित्सा सेवा और आवश्यक सामग्रियों के परिवहन को छोड़, बाकी सभी चीजों के लिए अपनी सीमाएं बंद कर रखी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ट्रक चालकों और उनके सहायकों को गोवा में प्रवेश से पहले सीमाओं पर लगाए गए ‘संक्रमणरोधी चैनल’ से होकर गुजरना होगा।

उन्होंने गोवा के लोगों से अपील की है कि लॉकडाउन की बढ़ाई गई अवधि तीन मई तक सरकार का सहयोग करें। उन्होंने कहा कि पहले जो भी कार्यालय 14 अप्रैल से कामकाज शुरू करने वाले वाले थे, अब वे 20 अप्रैल को खुलेंगे।

सावंत ने कहा कि बंद के दौरान उद्योगों को छूट दिए जाने के संबंध में कोई भी निर्णय बुधवार को केंद्र सरकार के दिशानिर्देश जारी होने के बाद ही लिया जाएगा।