logo
ओडिशा: यहां अधिकारी ही उड़ा रहे नियमों की धज्जियां, बारात में बिना मास्क जमकर नाचीं तहसीलदार
 
ओडिशा: यहां अधिकारी ही उड़ा रहे नियमों की धज्जियां, बारात में बिना मास्क जमकर नाचीं तहसीलदार
ट्विटर पर वायरल हुए वीडियो से लिया गया एक चित्र।

जाजपुर/दक्षिण भारत। कोरोना महामारी में प्रशासन से लेकर आमजन तक हर कोई इसी कोशिश में है कि नियमों व सावधानी का पालन किया जाए ताकि जल्द इस मुसीबत से मुक्ति मिले। दूसरी ओर, कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन पर नियम पालन करवाने की जिम्मेदारी है लेकिन वे खुद ही नियम भंग कर रहे हैं। यही नहीं, वे एक गलत उदाहरण भी पेश कर रहे हैं।

मामला ओडिशा प्रशासनिक सेवा (ओएएस) की एक महिला अधिकारी बुलबुल बेहरा का है, जो संक्रमण की रोकथाम के लिए राज्य में लागू लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए अपने भाई की बारात में नाचती दिखीं। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर आया तो देशभर में लोगों ने ऐतराज जताते हुए सवाल किया, ‘क्या आमजन और सरकारी अधिकारियों के लिए नियम अलग—अलग हैं?’

मामले की सूचना जाजपुर जिलाधिकारी चक्रवर्ती सिंह राठौर तक पहुंची है। उन्होंने कहा, ‘अभी महिला तहसीलदार छुट्टी पर हैं। जब वे ड्यूटी पर आएंगी, तो उनसे इस संबंध में स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। उनके स्पष्टीकरण के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।’

जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि चाहे कोई अधिकारी हो या आमजन, किसी को भी कोरोना महामारी संबंधी नियमों व सावधानियों का उल्लंघन नहीं करना चाहिए।

जानकारी के अनुसार, उक्त महिला अधिकारी बतौर तहसीलदार सुकिंडा में कार्यरत हैं। राज्य सरकार ने कोरोना के कारण कई प्रतिबंध लगा रखे हैं। इससे बड़ी बारातें ले जाने पर पाबंदी और सिर्फ 25 लोगों के ही विवाह समारोह में शामिल होने का नियम है। सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हुआ, उसमें महिला अधिकारी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते हुए नाचती नजर आ रही थीं। उन्होंने मास्क भी नहीं पहन रखा था।

जब जिम्मेदार अधिकारियों का ही ऐसा हाल होगा, तो वे आम जनता से नियमों का पालन किस नैतिकता से करवा सकेंगे? ​बताया गया कि महिला अधिकारी जगतसिंहपुर जिले के जगन्नाथपुर गांव में अपने भाई की शादी में गई थीं।