सांकेतिक चित्र
सांकेतिक चित्र

जबलपुर/भाषा। राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत इंदौर से गिरफ्तार करके यहां की जेल में स्थानांतरित किया गया एक व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है।

पुलिस उप महानिरीक्षक (जेल, जबलपुर जोन) गोपाल तामक्रर ने शनिवार को कहा, ‘इंदौर से स्थानांतरित किए गए और रासुका कानून के तहत गिरफ्तार किए गए चार बंदियों में एक बंदी कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है।’

इस खुलासे के बाद स्थानीय अधिकारियों ने प्रदेश में कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित इंदौर और भोपाल से कैदियों के और जबलपुर स्थानांतरण को फिलहाल स्थगित करने का अनुरोध किया है।

जिला कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि चार बंदियों में से एक कोरोना वायरस से संक्रमित है जबकि तीन बंदियों में कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं है।

यादव ने कहा, ‘हमने प्रदेश के उच्च अधिकारियों से अनुरोध किया है कि इंदौर और भोपाल की जेलों में बंद कैदियों को फिलहाल जबलपुर केन्द्रीय जेल में स्थानांतरित नहीं किया जाए।’

उन्होंने कहा कि यह अनुरोध इसलिए किया गया है कि कोरोना वायरस संक्रमित कैदियों के कारण पुलिसकर्मियों में भी संक्रमण फैल सकता है और इससे जबलपुर में स्थिति बिगड़ सकती है।

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमित बंदी को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, वहीं तीन अन्य बंदियों को जेल परिसर में ही पृथक रखा गया है।