योगी बोले- ये न कानून को मानेंगे, न व्यवस्था को; ये मानवता के दुश्मन हैं, हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं

लखनऊ/भाषा। कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लॉकडाउन के दौरान पुलिसकर्मियों और चिकित्सा कर्मियों के साथ अभद्रता या मारपीट करने वाले लोगों के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार बहुत सख्त कार्रवाई करेगी और इन पर रासुका भी लगाया जा सकता है। अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में नर्सों के साथ अभद्रता करने वालों पर रासुका लगाने की बात कही है।

अवस्थी ने बताया, ‘पुलिस तथा मेडिकल टीम पर हमला करने वालों या उनके साथ अभद्रता करने वालों के खिलाफ बहुत सख्त कार्रवाई होगी और ऐसे लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत भी कार्रवाई हो सकती है।’

बाद में उन्होंने गाजियाबाद के एक अस्पताल में नर्सों और अन्य मेडिकल स्टाफ के साथ वहां भर्ती लोगों द्वारा अभद्र व्यवहार किए जाने की घटना के संदर्भ में कहा कि ‘मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए कहा है कि ये न कानून को मानेंगे, न व्यवस्था को मानेंगे, ये मानवता के दुश्मन हैं। जो इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ किया है, वह जघन्य अपराध है, इन पर रासुका (एनएसए) लगाया जा रहा है, हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं।’

प्रदेश सरकार यह कदम ऐसे लोगों के लिए उठा रही है जो लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और पुलिसकर्मियों के साथ अभद्रता या मारपीट कर रहे हैं। वहीं कुछ अन्य राज्यों में स्वास्थ्य विभाग के लोगों के साथ भी अभद्रता के समाचार मिले हैं। हालांकि उत्तर प्रदेश में किसी स्वास्थ्य कर्मी के साथ ऐसी कोई घटना सामने नहीं आई है।

गत एक अप्रैल को मुजफ्फरनगर में एक गांव में कुछ लोगों ने बंद का पालन कराने गए पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया था जिसमें एक सब इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल बुरी तरह से जख्मी हो गए थे। इसी तरह लॉकडाउन लागू करवाने के दौरान कुछ अन्य जगहों से भी पुलिसकर्मियों के साथ अभद्रता की खबरें आई हैं।