राजस्थान पुलिस.. प्रतीकात्मक चित्र
राजस्थान पुलिस.. प्रतीकात्मक चित्र

जयपुर/भाषा। राजस्थान के करौली जिले में भूमि विवाद में एक पुजारी को कथित तौर पर आग लगा दी गई जिनकी बृहस्पतिवार को यहां एसएमएस अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने इस संबंध में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है जबकि बाकी की तलाश जारी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घटना की निंदा करते हुए कहा है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

पुलिस के अनुसार घटना सापोटरा के बूकना गांव की है। वहां बुधवार को एक मंदिर के पुजारी बाबू लाल वैष्णव पर पांच लोगों ने हमला किया। आरोप है कि मंदिर के पास की खेती की जमीन पर कब्जा करने की कोशिश कर रहे इन लोगों ने पुजारी पर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी। घायल पुजारी को स्थानीय अस्पताल ले जाया गया जहां से उन्हें बृहस्पतिवार को जयपुर भेजा गया।

करौली के पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा के अनुसार, ‘घायल पुजारी के बयानों पर भादंसं की धारा 307 में मामला दर्ज किया गया था। बृहस्पतिवार को पुजारी की मौत के बाद इस मामले में भादंसं की धारा 302 भी जोड़ी गई है। प्रकरण के मुख्य आरोपी कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाकी आरोपियों को भी जल्द पकड़ लिया जाएगा।’

इस बीच पुजारी के परिवार वालों ने इस मामले में थानाधिकारी के खिलाफ कार्रवाई, परिवार को मुआवजा देने आदि की मांग रखी है। इस घटना पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। गहलोत ने ट्वीट किया, ‘यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय है, सभ्य समाज में ऐसे कृत्य का कोई स्थान नहीं है। प्रदेश सरकार इस दुखद समय में शोकाकुल परिजनों के साथ है।’

गहलोत ने कहा, ‘घटना के प्रमुख आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है व कार्रवाई जारी है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।’ इससे पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने इस घटना को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा। उन्होंन ट्वीट किया, ‘राज्य में हर तरह के अपराधों की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। सापोटरा में मंदिर के पुजारी को जिंदा जलाने की घटना यह दर्शाती है कि अपराधियों में कानून का भय समाप्त हो चुका है। जनता भयभीत है, डरी हुई है, सहमी हुई है।’

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने इस घटना को निंदनीय बताते हुए कहा है कि राज्य की कांग्रेस सरकार को अब अपनी गहरी नींद को त्यागते हुए दोषियों को सख्त सजा दिलाकर परिवार को तुरंत न्याय दिलाना चाहिए।