प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

बालासोर/भाषा। ओडिशा के बालासोर जिले में बंगाल की खाड़ी में मछली पकड़ने गया मछुआरों का एक समूह तब हैरत में पड़ गया जब उनके जाल में मछली की जगह मानवरहित यान (यूएवी) फंस गया।

तालपडा गांव के मछुआरों की जाल में यह यूएवी सोमवार को फंसा था। सूत्रों ने बताया कि बाद में इसकी पहचान हुई कि यह समीप के चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) का मानव रहित यान है।

आईटीआर के सूत्रों ने बताया कि दूरस्थ रूप से लक्षित इस यूएवी को बंशी कहा जाता है और यह आठ फुट लंबा और 50 किलोग्राम का है। सूत्रों ने बताया कि इसका ज्यादातर इस्तेमाल परीक्षण और अभ्यास में किया जाता है।

उन्होंने कहा कि घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि यह रिमोट से नियंत्रित नष्ट होने योग्य विमान है और कई बार इस्तेमाल के दौरान यह समुद्र में गिर जाता है। मछुआरों का कहना है कि वह यूएवी को जाल में फंसा देखकर डर गए थे।

रक्षा सूत्रों ने बताय कि इस विमान का इस्तेमाल सतह से हवा और हवा से हवा मार करने वाली मिसाइलों और हथियार प्रणाली के हवाई लक्ष्य के रूप में किया जाता है।