केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। वरिष्ठ भाजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोमवार को प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निष्क्रिय किए जाने की जरूरत और अब विपक्ष दलों की मांग का उल्लेख करते हुए उन पर जोरदार हमला बोला।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कश्मीर में गुपकार डिक्लेरेशन ऑफ पीपुल्स अलायंस है। यह डिस्ट्रिक्ट डेवलेपमेंट कॉउंसिल के चुनाव के लिए साथ चल रहे हैं। दस पार्टियां हैं, जिसमें प्रमुख रूप से नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी हैं और अब कांग्रेस भी उसमें आ रही है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इनका एक निश्चित एजेंडा है कि अनुच्छेद 370 को हटाया जाना रद्द होना चाहिए और उसे फिर से लागू किया जाना चाहिए।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि फारूक अब्दुल्ला जैसे कुछ लोग तो इस सीमा तक चले गए कि उन्होंने कहा है कि अनुच्छेद 370 को दोबारा लागू करवाने के लिए चीन की भी सहायता लेनी पड़े तो हम लेंगे।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की दो क्रूर हकीकत हैं। भारत का बंटवारा हुआ, पाकिस्तान से शरणार्थी आए। जो कश्मीर में रह गए, उनको वोट देने का अधिकार, मकान-जमीन लेने के अधिकार नहीं हैं। पर जो वहां से निकलकर पंजाब से आगे निकल गए वो प्रधानमंत्री, उपप्रधानमंत्री भी हो गए। कश्मीर की ये क्रूर नियती थी।

दूसरे बिंदु का जिक्र करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा कि यदि जम्मू-कश्मीर की एक मुस्लिम या हिंदू लड़की ने दिल्ली या किसी अन्य स्थान के लड़के से शादी की, तो उसे अपने पिता की संपत्ति में कोई अधिकार नहीं होता था। हमने इसे बदल दिया है और संपत्ति पर उनके अधिकार को बहाल किया है।