जहाजरानी मंत्रालय के नए नामकरण की पट्टिका का अनावरण करते हुए केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया
जहाजरानी मंत्रालय के नए नामकरण की पट्टिका का अनावरण करते हुए केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। केंद्रीय पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग तथा रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनसुख मंडाविया ने मंत्रालय के नए नामकरण की पट्टिका का अनावरण किया। इस अवसर पर उन्होंने मंत्रालय के अधिकारियों और कर्मचारियों को संबोधित किया।

बता दें कि जहाजरानी मंत्रालय का नाम बदलकर अब पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्रालय कर दिया गया है। पट्टिका के औपचारिक अनावरण समारोह में मनसुख मंडाविया ने कहा कि यह हमारे लिए बेहद गर्व की बात है।

मंत्री मंडाविया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यापक दृष्टिकोण के साथ, देश मल्टी-मॉडल कनेक्टिविटी के समग्र और दीर्घकालिक दृष्टिकोण को लेकर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि जहां तक बंदरगाहों, पोत परिवहन और जलमार्गों का संबंध है तो वह स्वयं समुद्री परिवहन और व्यापार के विस्तार के संबंध में इस दूरदर्शिता के लिए प्रधानमंत्री के आभारी हैं।

मनसुख मंडाविया ने कहा कि ‘बदले हुए नए नाम के साथ, मंत्रालय जलमार्ग और तटीय शिपिंग के विकास पर अतिरिक्त ध्यान केंद्रित करने जा रहा है। लगभग 1,400 किमी जलमार्ग पहले ही पूरी तरह से विकसित हो चुका है और अतिरिक्त 1,000 किमी प्राथमिकता के आधार पर विकसित किया जा रहा है।

मनसुख मंडाविया ने कहा कि इस कार्य के लिए डीपीआर/संभाव्यता अध्ययन पूरा हो चुका है। पोर्ट ग्रिड के निर्माण के लिए भी ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, जिसमें विभिन्न छोटे बंदरगाह जैसे मत्स्य पालन बंदरगाह, कृषि बंदरगाह और खनिज बंदरगाह आदि शामिल हैं ताकि देश में अधिकाधिक पत्तन विकास और बंदरगाह के नेतृत्व में विकास हो सके।