पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़

सीएम ममता बनर्जी से कहा- आग से न खेलें

कोलकाता/दक्षिण भारत। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने राज्य में खराब होती कानून व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना की। उन्होंने बताया कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर हुए हमले के संबंध में केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेज दी है।

राज्यपाल धनखड़ ने कहा कि यह शर्मनाक है कि नड्डा पर हमले की घटना अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस के दिन हुई। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि केंद्र को अपनी रिपोर्ट भेज दी गई है, जिसकी विषय वस्तु यहां साझा नहीं की जा सकती।

राज्यपाल धनखड़ ने कहा कि कानून का उल्लंघन करने वालों को पुलिस और प्रशासन का संरक्षण प्राप्त है और विपक्ष के किसी भी प्रतिरोध को कुचला जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल डाकघर नहीं है… वह राजभवन में ही सीमित नहीं रह सकता, जब मानवाधिकारों का उल्लंघन हो।

राज्यपाल धनखड़ ने कहा कि राज्यपाल अपनी शपथ का अनुपालन करेगा, चाहे कुछ भी हो। उन्होंने कहा कि संविधान की रक्षा करना उनका कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भी संवैधानिक प्रावधानों के तहत हैं और उन्हें संविधान के अनुसार ही कार्य करना होगा।

राज्यपाल धनखड ने आरोप लगाया कि नौकरशाहों का एक वर्ग ‘ राजनीतिक नौकर’ की तरह काम कर रहा है जबकि उन्हंे जनता के पैसों से वेतन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि जवाबदेही तय की जाएगी।

राज्यपाल धनखड़ ने सीएम ममता बनर्जी से कहा कि वे आग से नहीं खेलें। उन्होंने कहा कि हर बीतते दिन के साथ राज्य में कानून व्यवस्था खराब हो रही है। मुख्यमंत्री और प्रशासन को अगाह करने के बावजूद कुछ नहीं हो रहा है।

राज्यपाल धनखड़ ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री का राजभवन के प्रति ‘गैर उत्तरदायी’ रवैया इंगित करता है कि संविधान के अनुसार शासन नहीं चल रहा है। … पश्चिम बंगाल में मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य यह है कि किसी भी विपक्ष (विरोध) को बेरहमी से दबा दिया जाता है…कल मानवाधिकार को तिलांजलि दे दी गई।

राज्यपाल धनखड़ ने कहा कि मैंने माननीय मुख्यमंत्री के बयान को गंभीरता से लिया है। किस तरह से एक जिम्मेदार मुख्यमंत्री, कानून के राज …संविधान में विश्वास करने वाला, बंगाली संस्कृति पर भरोसा करने वाला ऐसा कह सकता है, जैसा उन्होंने कहा।