प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना का टीका आगामी कुछ सप्ताह में तैयार हो सकता है। उन्होंने टीके की सफलता को लेकर भरोसा जताया और वैज्ञानिकों की तारीफ की। प्रधानमंत्री शुक्रवार को कोरोना वायरस पर सर्वदलीय बैठक को संबोधित कर रहे थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया की नजर कम कीमत वाली सुरक्षित वैक्सीन पर है और इसलिए स्वाभाविक है कि पूरी दुनिया की नजर भारत पर भी है। कोरोना वैक्सीन को लेकर जो विश्वास इस चर्चा में नजर आया है, वो कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई को और मजबूत करेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बारे में बीते दिनों में मेरी मुख्यमंत्रियों से चर्चा हुई थी। टीकाकरण को लेकर राज्य सरकारों के अनेक सुझाव भी मिले थे। लगभग आठ टीके भारत में उनके विनिर्माण आश्वासन के साथ परीक्षण के अन्य चरणों में हैं। भारत के तीन टीके विभिन्न चरणों में हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना का टीका बहुत दूर नहीं है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जैसे ही वैज्ञानिकों की हरी झंडी मिलेगी, भारत में कोविड-19 टीकाकरण का अभियान शुरू कर दिया जाएगा। पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और गंभीर परिस्थितियों से पीड़ित वृद्धजन को टीका लगाया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वैक्सीन के वितरण के लिए केंद्रीय और राज्य सरकार की टीमें मिलकर काम कर रही हैं। भारत में वैक्सीन वितरण के साथ-साथ क्षमता के लिए विशेषज्ञता है। हमारे पास टीकाकरण कार्यक्रमों में अनुभव के साथ सबसे बड़ा नेटवर्क है। राज्य सरकारों के सहयोग से, अन्य आवश्यक कोल्ड-चेन स्टोरेज और लॉजिस्टिक समर्थन का आकलन किया जा रहा है। टीका स्टॉक और वास्तविक समय की जानकारी के लिए एक विशेष सॉफ्टवेयर भी विकसित किया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत उन कुछ देशों में से एक है जहां टेस्टिंग और रिकवरी दर बहुत अधिक हैं और मृत्यु दर बहुत कम है। विकसित देशों की तुलना में, भारत ने कोरोना के खिलाफ बेहतर तरीके से लड़ाई लड़ी है और बहुत से लोगों की जान बचाने में कामयाब रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि फरवरी-मार्च की आशंकाओं भरे, डर से भरे माहौल से लेकर आज दिसंबर के विश्वास और उम्मीदों भरे वातावरण के बीच भारत ने बहुत लंबी यात्रा तय की है। अब जब हम वैक्सीन के मुहाने पर खड़े हैं तो वही जनभागीदारी, वही साइंटिफिक अप्रोच, वही सहयोग आगे भी बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि टीकाकरण के दौरान अफवाहें न फैलाई जाएं, ऐसी अफवाहें जो देश विरोधी और मानव विरोधी हैं। इस प्रकार, सभी राजनीतिक दलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम सभी भारतीयों को इस तरह की अफवाहों से बचाएं।