तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए यशवंत सिन्हा

फोटो स्रोत: यशवंत सिन्हा का ट्विटर अकाउंट।
फोटो स्रोत: यशवंत सिन्हा का ट्विटर अकाउंट।

कोलकाता/दक्षिण भारत। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री रहे एवं भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा शनिवार को तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने यह फैसला ऐसे समय में लिया है जब पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और तृणमूल एवं भाजपा में जोरदार भिड़ंत होने की संभावना जताई जा रही है।

यशवंत सिन्हा यहां पार्टी दफ्तर टीएमसी भवन पहुंचे और तृणमूल कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। इस अवसर पर उन्होंने वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में तृणमूल कांग्रेस का झंडा थामा। मोदी सरकार की नीतियों का अक्सर विरोध करने वाले यशवंत सिन्हा ने अप्रैल 2018 में भाजपा छोड़ दी थी।

वहीं, उनके बेटे जयंत सिन्हा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकार में राज्य मंत्री रहे हैं। यशवंत सिन्हा साल 1960 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हुए और अपने सेवाकाल के दौरान महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए 24 साल बिताए।

वे दो वर्षों के लिए बिहार सरकार के वित्त विभाग में अवर सचिव और उपसचिव थे, जिसके बाद उन्होंने वाणिज्य मंत्रालय में भारत सरकार के उप सचिव के रूप में काम किया। सिन्हा ने 1984 में भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया और जनता पार्टी के सदस्य के रूप में सक्रिय राजनीति में शामिल हो गए।

वे जून 1996 में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता बने थे। उन्हें मार्च 1998 में वित्त मंत्री नियुक्त किया गया। उन्हें जुलाई 2002 में विदेश मंत्री नियुक्त किया गया था। सिन्हा 2004 के लोकसभा चुनाव में हजारीबाग निर्वाचन क्षेत्र से हार गए थे।