बेंगलूरु/दक्षिण भारतउत्तरी कर्नाटक के गदग जिले में स्थित तोंटादार्य मठ के सिद्दलिंगा स्वामीजी का शनिवार को दिल का दौरा प़डने से निधन हो गया। स्वामीजी ने आज सुबह सीने में बेहद तेज दर्द की शिकायत की थी। उन्हें तत्काल एक निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया, जहां उन्होंने अपनी आखिरी सांस ली। उल्लेखनीय है कि स्वामीजी लिंगायत समुदाय को वीरशैवों से अलग धर्म और अल्पसंख्यक समुदाय का दर्जा देने के हिमायती थे। पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दरामैया द्वारा इस दिशा में किए गए प्रयासों का उन्होंने पूर्ण समर्थन किया था। उन्होंने कई धर्मगुरुओं के प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई करते हुए मुख्यमंत्री सिद्दरामैया से मुलाकात कर लिंगायतों के लिए आरक्षण की मांग भी की थी। सिद्दलिंगा स्वामीजी के निधन पर पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौ़डा, मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, पूर्व मुख्यमंत्री और जनता दल (एस) व कांग्रेस के सत्तासीन गठबंधन की समन्वय समिति के अध्यक्ष सिद्दरामैया, उप मुख्यमंत्री डॉ. जी. परमेश्वर और कई मंत्रियों ने उनके निधन पर शोक संदेश जारी किया। इन सभी नेताओं ने एक संयुक्त पत्रकार वार्ता के दौरान दो मिनट का मौन धारण कर स्वामीजी के प्रति अपनी श्रद्धा जताई।