चेन्नई/नई दिल्ली। मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामी ने राज्य में गहराए राजनीतिक संकट के बीच गुरुवार को अखिल भारतीय अन्ना द्रवि़ड मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) के विधायकों के साथ बैठक की और स्थिति पर गहन विचार-विमर्श किया। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार पलानीस्वामी ने जिलावार विधायकों से मुलाकात की। इस दौरान कई मंत्री भी उपस्थित रहे। राजस्व मंत्री आर बी उदयकुमार ने एक सीडी जारी की जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता ने वी के शशिकला के परिवार के बारे में टिप्पणी की है। उदयकुमार ने कहा कि कुछ ऐसे लोग हैं जो पार्टी कार्यकर्ताओं को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता ने जिन लोगों से किनारा किया था वह लोग अपने स्वार्थ के लिए पार्टी पर कब्जा करना चाहते हैं। पलानीस्वामी जयललिता के प्रति वफादार रहे हैं और पूर्व मुख्यमंत्री का भी उन पर पूरा भरोसा था। पार्टी से अलग-थलग हुए नेता टीटीवी दिनाकरण के समर्थक टी टामीसेल्वम ने आरबी उदयकुमार द्वारा सीडी जारी करने के बाद आरोप लगाया कि उदयकुमार विवादास्पद बयान देते रहे हैं। पहले वह मुख्यमंत्री बनने के लिए शशिकला का समर्थन कर रहे थे और अब वह पलानीस्वामी के खेमे में आ गए हैं। बदलते राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच शुक्रवार को कांग्रेस, द्रविड मुनेत्र कषगम (द्रमुक) तथा वाम दलों के नेताओं ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अनुरोध किया कि वह तमिलनाडु में सरकार को बहुमत साबित करने की अनुमति देने के लिए राज्यपाल सी विद्यासागर राव को आवश्यक निर्देश जारी करें। कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि तमिलनाडु में २१ विधायकों ने समर्थन वापसी का पत्र दिया है। इससे राज्य में राजनीतिक अस्थिरता की स्थिति पैदा हो गई है। सरकार को बहुमत साबित करने के लिए विधानसभा की विशेष बैठक बुलानी चाहिए। राष्ट्रपति से अनुरोध किया गया है कि राज्य में राजनीतिक अस्थिरता को देखते हुए राज्यपाल को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का निर्देश दें।