बेंगलूरु। मुख्यमंत्री सिद्दरामैया ने बेंगलूरु सिटी पुलिस को कहा कि बेंगलूरु शहर को गुंडागर्दी एवं आदतन अपराधियों से मुक्त किया जाए। उन्होंने शनिवार को यहां पुलिस आयुक्त कार्यालय में अत्याधुनिक ‘नम्मा१००’’ एवं एक आधुनिक कमांड सेन्टर का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि बेंगलूरु सिटी पुलिस ने गुणात्मक बदलाव का संकल्प लिया हैऔर उस दिशा में कार्यरत है। बेंगलूरु शहर को जीरो क्राइम सिटी तो नहीं बनाया जा सकता है परन्तु क्राइम पर नियंत्रण करने की शक्ति पुलिस बल में है। इस दिशा में पुलिस को अपनी इच्छा शक्ति को दर्शाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि होयसला पुलिस वैन का रंग कैसे हो इससे ज्यादा जरूरी यह है कि वह कितनी तत्परता से लोगों की सेवा सही समय पर करने में सहायक होती है। पुलिस को अपना कार्य करने में पूरी दक्षता के साथ एवं आधुनिक तकनीक के द्वारा शहर को न्यूनतम अपराध तक लाया जा सकता है। इस मौके पर उपस्थित कर्नाटक के डीजी एवं आईजीपी आरके दत्ता से उन्होंने कहा कि जिस तरह बेंगलूरु पुलिस ने नम्मा१०० को अत्याधुनिक बनाया है उसी तरह से बेलगांव, मेंगलूरु और मैसूरु आयुक्तालयों एवं सभी जिला मुख्यालयों में भी ऐसी व्यवस्था लागू की जाए। राज्य की पुलिस भी आधुनिक रुप से सशक्त होना जरूरी है।इस मौके पर गृहमंत्री डॉ. जी. परमेश्वर ने बताया कि कुछ माह पूर्व वे कर्नाटक के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों एवं होम विभाग के अधिकारियों के साथ लंदन गए थे। वहां पर पुलिस व्यवस्था एवं प्रशासन का जायजा लिया। लंदन में जनता की शिकायत की सुनवाई मात्र १५ सेकेन्ड के अंदर पुलिस द्वारा की जाती है। वहां पर शिकायतकर्ता द्वारा शिकायत देने के उपरांत १७०० पुलिस कर्मी ब़डी ही तत्परता के साथ शिकायत को अटेन्ट करते हैं। लंदन में प्रतिदिन ३० हजार से ज्यादा शिकायत दर्ज होती हैं। वहां की शिकायत व्यवस्था को देखने के उपरांत बेंगलूरु में भी इस व्यवस्था को शीघ्र लागू करने की दिशा में प्रयास किए गए। पूर्व आयुक्त एमएन मेघरिक के समय से लेकर आयुक्त प्रवीण सूद ने इस योजना को आगे ब़ढाया। डायल १००, कमांड सेन्टर, सोशल मीडिया को अत्याधुनिक बनाने की दिशा में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त हितेन्द्रा ने योजना बनाई और डीसीपी नागेन्द्रकुमार ने इसे क्रियान्वन की दिशा में कदम उठाए। पुलिस विभाग द्वारा उठाया गया कदम आज सभी के सम्मुख है। पुलिस आयुक्त प्रवीण सूद ने इस मौके पर कहा कि पहले डायल १०० में १० से ५० लाइन होती थी जो अब ब़ढकर १०० से अधिक हो गई हैं। शिकायतकर्ता द्वारा फोन करने पर १५ सेकेन्ड के अंदर पुलिस उसका जवाब देगी और १५ मिनट के अंदर होयसला पुलिस उस प्रकरण पर कार्यवाही करेगी। १०० नम्बर पर प्राप्त सभी मिस कॉल पर पुलिस वापस फोन करेगी। जैसे ही फोन बजेगा, उस व्यक्ति के लोकेशन की जानकारी पुलिस को तुरन्त मिल जाएगी। समारोह में अतिरिक्त मुख्य सचिव (होम) सुभाषचन्द्रा, सभी अतिरिक्त पुलिस आयुक्त, सभी डीसीपी के साथ अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।

शुभारंभ के मौके पर मुख्यमंत्री ने डायल 100 पर आए एक फोन की शिकायत सुनी। शिकायतकर्ता एक लड़की ने बताया कि ‘‘मैं कलासीपाल्यम पुलिस स्टेशन के बाहर खड़ी हुई और मेरा पासपोर्ट गुम हो गया है। कृपया जल्द ही इस समस्या से निजात दिलाई जाए।’’ मुख्यमंत्री ने पुलिस आयुक्त को इस संबंध में तुरन्त कार्यवाई करने के आदेश दिए।