चेन्नई। केन्द्रीय नौवहन, स़डक परिवहन और राजमार्ग राज्य मंत्री, पोन राधाकृष्णन ने जहाज सं २३ की पहली स्टील प्लेट और सांसद एनपी प्रेमचंद्रन ने जहाज सं २४ की पहली स्टील प्लेट को केरल स्थित कोच्चीन शिपयार्ड लिमिटेड (सीएसएल) में काटा। यह दोनों जहाज १२०० यात्री और १००० टन कार्गो ले जाने में सक्षम होंगे और इन्हें सीएसएल द्वारा अंडमान निकोबार प्रशासन के साथ किए गए करार के अनुरुप बनाया जा रहा है। गुरुवार को एक विज्ञप्ति जारी कर इस बात की जानकारी दी गई है।विज्ञप्ति में बताया गया है कि इन जहाजों को देश के मुख्य समुद्री मार्ग से अंडमान निकोबार द्वीप मार्ग पर सभी मौसम में संचालित करने के लिए बनाया जा रहा है। १२०० यात्रियों और १००० टन कार्गो ले जाने के लिए उपयुक्त इन जहाजों में इले्ट्रिरक प्रोपल्सन प्रणाली लगाई गई है। इसे तृतीय श्रेणी के अंतराष्ट्रीय यात्रा करने वाले जहाजों की तरह बनाया गया है।सीएसएल मौजूदा समय में केन्द्र शासित द्वीप के लिए दो अन्य यात्री सह कार्गो जहाजों का निर्माण भी कर रहा है, जिसमें ५०० यात्री और १५० टन कार्गो ले जाने की क्षमता होगी। इन दोनों जहाजों का निर्माण कार्य भी प्रगति पर है। इस अवसर पर मंत्री ने सीएसएल के ट्रेड यूनियनों और संघों के साथ भी बातचीत की। बातचीत के दौरान, यूनियनों ने सीएसएल का निजीकरण संबंधी प्रस्ताव के संबंध मंें अपनी चिंताएं जाहिर की। उन्होंने सीएसएल का उल्लेख करते हुए कि यह यार्ड के निजीकरण की ओर पहला कदम है। यूनियनों ने शिपयार्ड के लिए पर्याप्त आदेशों की कमी के बारे में अपनी चिंताओं को भी मंत्री के समक्ष उजागर किया। मंत्री ने चर्चा के दौरान यूनियनों को यह स्पष्ट आश्वासन दिया कि सीएसएल का निजीकरण नहीं होगा।