कोरोना की दूसरी लहर रोकने के लिए स्वास्थ्य और अग्रिम पंक्ति के कर्मचारी जरूर लगवाएं टीका: सुधाकर

डॉ. के सुधाकर। फोटो स्रोत: ट्विटर अकाउंट।
डॉ. के सुधाकर। फोटो स्रोत: ट्विटर अकाउंट।

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने कहा कि राज्य में कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रकोप को रोकने के लिए सभी स्वास्थ्य और अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों के लिए कोरोना टीकाकरण जरूरी है। मुख्यमंत्री स्वयं इस बारे में निर्देश जारी करेंगे।

सुधाकर शनिवार को यहां मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार सभी को मुफ्त टीकाकरण प्रदान कर रही है। किसी के लिए भी वैक्सीन लेने में संकोच करने का कोई कारण नहीं है। हर विभाग के सभी कर्मचारियों को टीका लगवाना चाहिए। मुख्यमंत्री जल्द ही एक वीडियो संदेश जारी करेंगे जिसमें कर्मचारियों से टीका लगवाने का आग्रह किया जाएगा।

सुधाकर ने कहा कि टीकाकरण के बाद संक्रमण की गंभीरता कम हो जाएगी जिससे मृत्यु दर कम हो जाएगी। जनता को दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करना चाहिए, लोगों को शादी और अन्य आयोजनों के दौरान बड़ी सभाओं को प्रतिबंधित करना चाहिए।

सुधाकर ने कहा कि हम दूसरी लहर को रोकने के लिए कड़े कदम उठा रहे हैं। हमारे देश में ब्राजील वेरिएंट की सूचना नहीं है। कोविड धीरे-धीरे कम हो रहा है, लेकिन फिर भी हमें सतर्क रहने की जरूरत है।

अन्य राज्यों से प्रवेश को प्रतिबंधित करने के उपायों पर मंत्री ने कहा कि चूंकि पड़ोसी राज्यों जैसे केरल और महाराष्ट्र में मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है और आशंका है कि यहां भी ऐसा ही हो सकता है।

मंत्री ने कहा कि इसलिए उन राज्यों से प्रवेश करने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से आदेश जारी किए गए हैं कि कर्नाटक में प्रवेश करते समय आरटीपीसीआर नकारात्मक रिपोर्ट हो। सीमावर्ती जिलों के प्रशासन को इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने के लिए कहा गया है।

सुधाकर ने कहा कि राज्य में आगे किए जाने वाले उपायों के बारे में सभी जिलों के कलेक्टरों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस की जाएगी। अगर हम दूसरी लहर को रोकने में सफल होते हैं तो लॉकडाउन का सवाल ही नहीं उठता।