मधुमेह और उच्च रक्तचाप रोगियों के टीकाकरण पर खास ध्यान देगा चेन्नई निगम

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

चेन्नई/दक्षिण भारत। निगम आयुक्त गगनदीप सिंह बेदी ने कोरोना टीकाकरण को लेकर डॉक्टरों को शहर में मधुमेह और उच्च रक्तचाप के रोगियों (आयु वर्ग) की पहचान करने और आंकड़े जुटाने का निर्देश दिया है। टीकाकरण अभियान को आगे बढ़ाते हुए निगम का ध्यान मधुमेह और उच्च रक्तचाप के रोगियों के अलावा, पूर्ववर्ती हॉटस्पॉट पर भी है।

जानकारी के अनुसार, पूर्ववर्ती हॉटस्पॉट कोयम्बेडु में हर रोज टीकाकरण का आंकड़ा 600-700 तक होता है। कई बार यहां सुबह पांच बजे से ही टीकाकरण शुरू हो जाता है ताकि ज्यादा लोगों को कोरोना के खिलाफ कवच प्राप्त हो सके। इस इलाके में श्रमिकों, ड्राइवरों और कारोबारियों सहित उन लोगों को बड़ी संख्या में टीके लगाए जा चुके हैं जो अपने पेशे के कारण दिनभर कई लोगों के संपर्क में आते हैं।

इसी प्रकार, पूर्व में हॉटस्पॉट रहे कासिमेदु में टीकाकरण शुरू हुए करीब दो हफ्ते हुए हैं। यहां 4,000 खुराकें लगाकर लोगों के जीवन को सुरक्षित बनाया गया है। निगम कारोबारियों, दुकानदारों और कर्मचारियों के टीकाकरण पर ध्यान केंद्रित कर रहा है ताकि भविष्य में कोरोना की चुनौती का मजबूती से मुकाबला किया जा सके।

अब तक टीकाकरण में आईं समस्याओं का अध्ययन कर निगम प्रक्रियागत सुधारों को भी अपनाता रहा है। इसके तहत निगम शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (यूसीएचसी) और प्रत्येक क्षेत्र में विशेष स्थानों पर टीकाकरण पर नजर रखेगा। यूपीएचसी को लेकर निगम ने स्पष्ट किया कि जहां भी जरूरत होगी, टीकाकरण किया जाएगा।