चेन्नई: लॉकडाउन में चमका, अब मंदा पड़ा एक्वेरियम का धंधा

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

बिक्री में 40 प्रतिशत तक गिरावट

चेन्नई/दक्षिण भारत। कोरोना लॉकडाउन में लोगों ने समय बिताने के लिए कई चीजों का सहारा लिया, जिनमें एक्वेरियम भी शामिल था। रंग-बिरंगी और चंचल मछलियां किसे नहीं पसंद होंगी, लेकिन लॉकडाउन के बाद एक्वेरियम का धंधा मंदा है। पिछले दो महीनों में ही बिक्री में करीब 40 प्रतिशत की गिरावट आ गई है।

हाल में कोरोना मामलों में कमी आने के बाद प्रतिबंधों में कुछ छूट दी गई थी। इस दौरान लोग कामकाज पर ध्यान देकर घर की आर्थिक स्थिति सुधारने को प्राथमिकता दे रहे हैं।

हालांकि चेन्नई में लॉकडाउन के दौरान एक्वेरियम का कारोबार अच्छा चला था। काफी लोगों ने सजावटी मछलियों की ऑनलाइन खरीदारी की थी। घरों में बंद लोगों के लिए यह सजावट के साथ मनोरंजन और तनाव कम करने का भी माध्यम था। खासतौर से बच्चों और बुजुर्गों के लिए।

लॉकडाउन अवधि में कई लोगों ने एक्वेरियम के साथ अपनी तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की थीं। बहुत लोगों ने यह स्वीकार किया कि इससे तनाव दूर करने में मदद मिली है और उनके माता-पिता या बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हुआ है। लेकिन जबसे प्रतिबंधों में ढील की घोषणा की गई और लोग काम पर जाने लगे, तो बिक्री पर काफी असर पड़ा है।