रेलवे सुरक्षा आयुक्त ने कुडाची-रायबाग के बीच दोहरी लाइन का निरीक्षण किया

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। दक्षिण पश्चिम रेलवे के कुडाची और रायबाग स्टेशनों (17 किमी) के बीच नई बिछाई गई दोहरी लाइन का निरीक्षण रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस), दक्षिणी सर्कल एके राय ने किया।

कुडाची और रायबाग के बीच यह डबल लाइन लोंडा-मिराज परियोजना के दोहरीकरण के 186 किमी का हिस्सा है, जिसे साल 2015-16 में 3,627.47 करोड़ रुपए की लागत से मंजूरी दी गई थी।

रेलवे अधिकारियों ने बताया कि एके राय ने नई बिछाई गई दोहरी लाइन का 15 मार्च को निरीक्षण और गति परीक्षण किया। इस अवसर पर रेलवे सुरक्षा उपायुक्त श्रीनिवास भी मौजूद थे।

नई बीजी दोहरीकरण लाइन कर्नाटक के बेलगावी जिले में है और इसे सीआरएस अवलोकन के अनुपालन के बाद माल और यात्री यातायात के लिए खोला जाएगा। इस खंड में 2 प्रमुख ब्रिज, 20 माइनर ब्रिज, 22 वाटरवे ब्रिज, 4 रोड अंडर ब्रिज और एक कैनाल ब्रिज हैं। इसमें 4 लेवल क्रॉसिंग हैं।

यह इस परियोजना का तीसरा खंड है जिसका दोहरीकरण किया जा रहा है। घाटप्रभा से चिकोडी रोड (16 किमी) और चिकोडी रोड से रायबाग (14 किमी) के बीच लोंडा-मिराज परियोजना का हिस्सा पहले ही चालू हो चुका है

पूर्व रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी के समय में, इस परियोजना की उनके द्वारा निगरानी बेंगलुरु से मुंबई के बीच संपर्क में सुधार के लिए की गई थी।

इस खंड में दोहरीकरण संबंधी कार्य की निगरानी मुख्य प्रशासनिक अधिकारी/ निर्माण केसी स्वामी द्वारा की जा रही है। वहीं, टीवी भूषण, जी शांतिराम एवं एसडब्ल्यूआर निर्माण संगठन के अधिकारियों द्वारा निष्पादित की जा रही है।