मैसूरु महापौर चुनाव के लिए गठबंधन से कांग्रेस और जद (एस) में कोई खुश नहीं!

फोटो स्रोत: कांग्रेस का फेसबुक पेज।
फोटो स्रोत: कांग्रेस का फेसबुक पेज।

मैसूरु/दक्षिण भारत। मैसूरु सिटी कॉरपोरेशन में भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए मेयर चुनाव के लिए कांग्रेस और जद (एस) के गठबंधन से कोई भी खुश नजर नहीं आ रहा है क्योंकि दोनों पार्टियों के बीच गुटबाजी तेज हो गई है।पदयात्राओं से ठीक पहले सीएलपी नेता सिद्दरामैया और केपीसीसी के अध्यक्ष डीके शिवकुमार के बीच मतभेद चल रहे हैं।

सिद्दरामैया ने जद (एस) के साथ गठबंधन में प्रवेश करने और डिप्टी मेयर पद के बारे में सूचित नहीं रखने पर अपनी नाराजगी जाहिर की है। अहिंदा नेता ने पार्टी के नगरसेवकों और स्थानीय नेताओं को सलाह दी थी कि वे निगम के पिछले कार्यकाल के दौरान गठबंधन होने पर दोनों दलों के बीच मेयर के पद से कम में समझौता न करें।

लेकिन केपीसीसी के कार्यकारी अध्यक्ष आर ध्रुवनारायण, विधायक तनवीर सैत, पूर्व-महापौर अयूब खान, आरिफ हिसियन और अन्य ने जद (एस) नेताओं अब्दुल्ला, रवि, चालुवे गौड़ा और अन्य के साथ बातचीत की और महापौर पद के लिए रजामंदी कर ली।

जब पलड़ा जद (एस) की ओर झुक रहा था तो कांग्रेस के नेताओं ने अंतिम समय पर शिवकुमार से बात की और डिप्टी मेयर पद के लिए समझौता किया। कहा जा रहा है कि इस कदम के बाद सिद्दरामैया ने अब केपीसीसी से तनवीर सैत को नोटिस भेजने के लिए कहा है। अन्य कांग्रेस नेताओं ने भी महापौर के पद को जद (एस) को सौंपने के निर्णय पर सवाल उठाया है।

पार्टी के सूत्रों ने पूछा कि जब पार्टी के सभी नगरसेवक फैसले के पक्ष में थे, तो केवल तनवीर को ही क्यों निशाना बनाया जाना चाहिए। शिवकुमार और सिद्दरामैया के बीच संवादहीनता केवल भ्रम की स्थिति को बढ़ा रही है।

कुमारस्वामी लोगों को यह साबित करने के लिए कांग्रेस और भाजपा के बीच समानता बनाए रखना चाहते थे कि पार्टी की अपनी व्यक्तिगत, क्षेत्रीय पहचान है। कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि घटनाक्रम पार्टी के भीतर गुटबाजी को को बढ़ावा दे सकती है। आगे उन्होंने कहा कि शिवकुमार और अन्य वरिष्ठ लोगों को सिद्दरामैया और उनके समर्थकों को एकजुट करने में मुश्किल हो सकती है।