कक्षा 1 से 8 के स्कूल खोलने पर 16 फरवरी को शिक्षा विभाग करेगा निर्णय

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कोरोना काल के बाद से बंद पड़े स्कूलों में कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल खुलने के बाद सरकार अब कक्षा 1 से 8 के बच्चों के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की योजना बना रही है।

शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार ने इस पर हाल में विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की और कहा कि शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग और तकनीकी सलाहकार समिति शेष कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने पर निर्णय लेने के लिए 16 फरवरी को एक बैठक आयोजित करेगा।

यह निर्णय कई छात्रों, शिक्षकों और विशेषज्ञों द्वारा शिक्षा विभाग में संपर्क करने और स्कूलों को फिर से खोलने पर अपनी राय व्यक्त करने के बाद लिया गया है।

इससे पहले 1 फरवरी को सरकार ने कक्षा 9 और 10 के लिए पूरे दिन के लिए स्कूल (सुबह 10 बजे से शाम 4.30 बजे तक) खोल दिए थे, हालांकि वैकल्पिक दिनों में कक्षा 6 से 8 तक के लिए ऑनलाइन कक्षाएं जारी है।

कुमार ने कहा कि एसएसएलसी और पीयूसी कक्षाएं पहले से ही पूरे जोरों पर संचालित है जिनमें हैं छात्रों की संख्या बढ़ रही है।

वहीं अस्थायी परीक्षा समय सारिणी प्रकाशित होने के बाद से छात्र शैक्षणिक गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल हो गए हैं।

कक्षा 10 और पीयूसी-2 के लिए अंतिम परीक्षा, मूल्यांकन और परिणाम की प्रक्रिया जून के अंत तक घोषित की जाएगी। इसी तरह कक्षा 1 से 9 के लिए परीक्षा और परिणाम 10 जून तक घोषित किए जाएंगे।