तमिलनाडु में पत्रकारों को माना जाएगा अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मचारी

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

चेन्नई/भाषा। द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) के अध्यक्ष एमके स्टालिन ने मंगलवार को कहा कि तमिलनाडु में प्रिंट और ब्रॉडकास्ट मीडिया में काम कर रहे पत्रकारों, फोटो पत्रकारों और कैमरामैनों को अग्रिम मोर्चे के कर्मचारी माना जाएगा और उन्हें इसके तहत कुछ विशेष छूट और अधिकार प्रदान किए जाएंगे।

स्टालिन ने कहा, ‘चाहे बारिश हो या धूप और विशेष रूप से कोविड-19 महामारी के समय में मीडिया क्षेत्र में काम कर रहे पत्रकारों ने अपने जीवन को खतरे में डालकर अपने कर्त्तव्यों का निर्वहन किया है। इसलिए उन्हें अग्रिम मोर्चे के कर्मचारी माना जाएगा।’

द्रमुक अध्यक्ष ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, ‘चाहे प्रिंट मीडिया हो अथवा इलेक्ट्रॉनिक या कोई और सभी पत्रकारों को अग्रिम मोर्चे के कर्मचारी माना जायेगा जिसके तहत उन्हें कुछ विशेष छूट और अधिकार प्रदान किए जाएंगे।’

उन्होंने कहा कि मीडिया क्षेत्र लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है और इससे जुड़े पत्रकार लोगों तक सही जानकारी पहुंचाकर उन्हें जागरुक करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत के साथ मिली जीत के बाद स्टालिन राज्य के अगले मुख्यमंत्री की भूमिका निभाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।