मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलने से ‘निराश’ विश्वनाथ ने येडियुरप्पा को बताया ‘कृतघ्न’

एमएलसी एएच विश्वनाथ। फोटो स्रोत: ट्विटर अकाउंट।
एमएलसी एएच विश्वनाथ। फोटो स्रोत: ट्विटर अकाउंट।

मैसूरु/दक्षिण भारत। मंत्रिमंडल विस्तार में जगह न मिलने से ‘निराश’ एमएलसी एएच विश्वनाथ ने बुधवार को मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा को ‘कृतघ्न’ बताया। यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए विश्वनाथ ने येडियुरप्पा पर कड़ा प्रहार करते हुए आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री 17 विधायकों द्वारा दिए गए बलिदान को भूल गए हैं।

विश्वनाथ ने कहा कि येडियुरप्पा अपने वादे को निभाने और उन्हें मुख्यमंत्री बनाने के लिए दिए गए ‘बलिदान’ को स्वीकार करने में विफल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जद (एस) के प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देना मेरा फैसला था और इससे दूसरों को पार्टी छोड़नी पड़ी और येडियुरप्पा को अपना समर्थन देना पड़ा।

विश्वनाथ ने सीपी योगेश्वर को मंत्रिमंडल में शामिल करने पर कड़ी आपत्ति जताई और कहा कि योगेश्वर द्वारा किए गए ‘ब्लैकमेल’ के आगे घुटने टेक दिए गए हैं जिसका जल्द ही खुलासा हो जाएगा।

विश्वनाथ ने योगेश्वर पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए कहा, ‘योगेश्वर पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप है और मुझे हुनसूर में उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा।’

विश्वनाथ ने मंत्रिमंडल विस्तार में जातिगत समीकरणों का ‘ध्यान’ नहीं रखने के लिए भी मुख्यमंत्री की आलोचना की। उन्होंने कहा कि वीरशैव समुदाय से 13 मंत्री हैं और 11 मंत्री वोक्कालिगा से हैं, जिनकी कैबिनेट में बड़ी हिस्सेदारी है। उन्होंने कहा कि इसमें सभी समुदायों के लोग होने चाहिए।