प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक में स्नातक, स्नातकोत्तर, इंजीनियरिंग और डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के विद्यार्थियों के लिए 15 जनवरी से ऑफलाइन कक्षाएं शुरू होंगी। यह घोषणा सोमवार को उपमुख्यमंत्री अश्वत्थ नारायण ने की।

वे अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक के बाद मीडियाकर्मियों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने बताया कि अंतिम वर्ष की ऑफलाइन कक्षाएं पहले ही चल रही हैं।

अन्य कक्षाएं भी इस महीने शुरू होंगी। साथ ही, छात्रावासों और बस सुविधाओं को भी शुरू किया जाएगा। इसके लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) के अनुसार तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि कॉलेज लाइब्रेरी, कैंटीन, शैक्षिक और सांस्कृतिक गतिविधियों के आयोजन और खेलों के लिए भी एसओपी बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि एनसीसी और एनएसएस कक्षाएं भी शुरू की जाएंगी। एनसीसी छात्रों के लिए टेस्टिंग कैंप लगाए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि कॉलेजों में कोविड-19 टेस्ट और सैनिटाइजेशन सुविधाएं होंगी तथा सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जाएगा।

उपमुख्यमंत्री ने एक और महत्वपूर्ण सूचना साझा करते हुए कहा कि विद्यार्थियों की सुविधा के मद्देनजर उन्हें जल्द बस पास वितरित करने की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कॉलेजों से अनुरोध किया कि वे अपने निकटवर्ती सड़क परिवहन विभाग के कार्यालयों में बस पास का लाभ उठाने की प्रक्रिया में तेजी लाएं।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि ऑफलाइन परीक्षाएं आयोजित करने के लिए निजी और सरकारी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ बातचीत चल रही है। जल्द ही परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया जाएगा। बता दें कि राज्य के विद्यार्थी कॉलेज खुलने का इंतजार कर रहे हैं ताकि पढ़ाई सुचारु हो।