प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

कलबुर्गी/दक्षिण भारत। महिला एवं बाल कल्याण मंत्री शशिकला जोले ने मंगलवार को बताया कि कर्नाटक सरकार ने पुलिस, राजस्व और महिला एवं बाल कल्याण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के मामलों पर तत्काल ध्यान दिया जाए।

मंत्री ने बताया कि कर्नाटक सरकार ने राज्य के 29 जिलों में महिला कल्याण केंद्रों को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि इन केंद्रों का निर्माण जिला मुख्यालयों पर किया जाएगा।

मंत्री ने उक्त केंद्रों के निर्माण कार्य में प्रगति के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जहां भी जमीन उपलब्ध थी, उनमें से कुछ जिलों में कल्याण केंद्रों के निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

मंत्री शशिकला ने केंद्र और राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने केंद्र द्वारा शुरू किए गए पोषण अभियान के बारे में बताया कि सरकार इसके विस्तार पर काफी जोर दे रही है।

मंत्री ने विकास कार्यों में तकनीक के इस्तेमाल से हो रहे फायदों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ियों में बच्चों के पोषण एवं विकास की निगरानी के लिए स्मार्ट फोन के वितरण का काम आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और पर्यवेक्षकों को पहले ही दे दिया गया है।

मंत्री ने बाल विवाह की घटनाओं पर प्रशासन द्वारा की गई कार्रवाई के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन अवधि में बाल विवाह की खबरें आईं। हालांकि अधिकारियों ने ऐसे प्रयासों पर रोक लगाई। उनके मुताबिक, कलबुर्गी जिले में अधिकारियों ने बाल विवाह से संबंधित 84 प्रयासों को विफल किया था।