बाहुबलि के महामस्तकाभिषेक के लिए 175 करोड़ आवंटित

1058
फाइल फोटो
  • श्रवणबेलगोला स्थित अखंड प्रतिमा को कहते हैं बाहुबली या गोम्मटेश्‍वर

बेंगलूरु। अगले वर्ष के फरवरी महीने में श्रवणबेलगोला में आयोजित होने वाले बाहुबली प्रतिमा पूजन कार्यक्रम के लिए राज्य सरकार अभी से तैयारियों में जुट गई है। राज्य के श्रवणबेलगोला स्थित इस अखंड प्रतिमा को प्यार और श्रद्धा से बाहुबली या गोम्मटेश्‍वर की प्रतिमा कहकर बुलाया जाता है। अगले वर्ष फरवरी में 57 फीट ऊंची इस विशाल प्रतिमा के पूजन (महामस्तकाभिषेक) के लिए जैन धर्म एवं हिन्दू धर्म के लाखों श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है। मुख्यमंत्री सिद्दरामैया ने सोमवार को एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद कहा कि सरकार ने इस विशेष पूजन कार्यक्रम में आने वाले लाखों जैन श्रद्धालुओं और अन्य श्रद्धालुओं की मेजबानी करने का निर्णय लिया है।

श्रवणबेलगोला दिगंबर जैन मठ की प्रबंधन समिति के अध्यक्ष चारुकीर्ति भट्टारक स्वामीजी के नेृतत्व में समिति के सदस्यों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की। ज्ञातव्य है कि इस विशेष पूजन कार्यक्रम का आयोजन 12 वर्षों में एक बार होता है और यही कारण है कि जैन धर्म के साथ अन्य धर्मावलंबी भी इसमें काफी संख्या में शरीक होते हैं। एक महीने तक चलने वाले इस पूजन कार्यक्रम के लिए कर्नाटक राज्य सरकार तैयार है और इसमें देश के कोने-कोने से पहुंचने वाले श्रद्घालुओं की मेजबानी करेगी।

पत्रकारों से बातचीत में सिद्दरामैया ने कहा कि सरकार ने हासन जिले के श्रवणबेलगोला में अगले वर्ष 7 फरवरी से 26 फरवरी के बीच होने वाले भगवान गोम्मटेश्‍वर के महामस्तकाभिषेक के लिए 175 करोड़ की राशि आवंटित कर दी है। इस भव्य समारोह के आयोजन के लिए गठित कमेटी से बातचीत करने के बाद राज्य के पशुपालन तथा हासन जिले के प्रभारी मंत्री ए मंजु ने कहा कि 20 दिनों तक चलने वाले इस भव्य कार्यक्रम में देश और विदेश के 30 लाख से अधिक लोगों के आने की उम्मीद है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए आवश्यक ढांचागत सुविधाएं, अस्थायी रहने के स्थानों का निर्माण और तीर्थयात्रियों के लिए आवास की सुविधा उपलब्ध करवाने की तैयारियां शुरु कर दी गई हैं । इन कार्यों को चरणबद्ध ढंग से पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कार्य पहले ही शुरु किया जा चुका है। और दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह एक वैश्‍विक कार्यक्रम है जिसमें हजारों जैन समुदाय के हमारे बंधु पहुंचेंगे। हम यह सुनिश्‍चित करेंगे कि सभी तीर्थयात्रियों को अच्छी सुविधाएं मिलें। हासन जिले के प्रभारी मंत्री ए मंजु ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से केन्द्र सरकार से 12 वर्ष में एक बार होने वाले इस कार्यक्रम के लिए राशि जारी करने के लिए अनुरोध किया गया था लेकिन केन्द्र सरकार की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है।