बेंगलूरु/भाषा। कर्नाटक में कोरोना वायरस के 10 नए मामले आने के साथ ही राज्य में इस घातक विषाणु से संक्रमित लोगों की संख्या 100 के आंकड़े को पार कर गई है। स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन में मंगलवार को जानकारी दी गई कि अभी तक राज्य में कोविड-19 के 101 मामलों की पुष्टि हुई है। इनमें तीन लोगों की मौत हो गई और आठ लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

बुलेटिन में कहा गया है कि सरकार ने अभी तक राज्य के 78 लोगों की पहचान की है जो नई दिल्ली में निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात कार्यक्रम से संबंधित हैं और उन्हें पृथक कर दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि वे अभी यकीन से नहीं कह सकते कि क्या ये सभी लोग जमात की सभा में शामिल हुए थे या नहीं, लेकिन उन्हें पृथक कर दिया गया है क्योंकि वे इस महीने की शुरुआत में इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले लोगों के संपर्क में आए होंगे।

इनमें से छह केरल के यात्री हैं जो कर्नाटक में हवाईअड्डों पर पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि एक गर्भवती महिला समेत 88 लोग अस्पतालों के पृथक वार्ड में भर्ती हैं तथा उनकी हालत स्थिर है जबकि दो अन्य गहन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में भर्ती हैं।

बुलेटिन में स्वास्थ्य मंत्री बी श्रीरामुलू द्वारा सोमवार देर रात को बताए गए तीन संक्रमित लोगों की जानकारियां भी शामिल हैं। इनमें बल्लारी के होसापेट निवासी 52 वर्षीय शख्स और 48 तथा 26 वर्ष की आयु की दो महिलाएं शामिल हैं। इन लोगों ने बेंगलूरु की यात्रा की थी लेकिन इन्होंने विदेश यात्रा नहीं की थी।

विभाग ने कहा कि यह पता लगाने के लिए विस्तृत जांच चल रही है कि ये विषाणु से कैसे संक्रमित हुए। संक्रमण के नए मामले बेंगलूरु (3), मैसूरु (2), चिकबल्लापुर (1), दक्षिण कन्नड़ (1), उत्तर कन्नड़ (1) और कलबुर्गी (1) से सामने आए हैं। विभाग ने बताया कि सभी मामलों के संपर्क में आए लोगों की पहचान शुरू कर दी गई है।

विभाग ने जिन 101 मामलों का जिक्र किया है उनमें 45 मामले बेंगलूरु, 14 मैसूरु, नौ चिकल्लापुर, आठ दक्षिण कन्नड़ और उत्तर कन्नड़, चार कलबुर्गी, तीन-तीन देवांगेरे, उडुपी और बल्लारी, दो-दो तुमकुरु और एक-एक मामला कोडागु तथा धरवाड़ से है।

अस्पताल से जिन लोगों को छुट्टी दी गई है, वे सभी बेंगलूरु के हैं जबकि कलबुर्गी, बेंगलूरु और तुमकुरु में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, जावेद अख्तर ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में शामिल हुए व्यक्ति हेल्पलाइन नंबर 080-29711171 पर संपर्क करें।

उन्होंने कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े राज्य के 78 लोगों की पहचान की गई है तथा उन्हें पृथक कर दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘हम यकीन से नहीं कह सकते कि इनमें से सभी इस महीने की शुरुआत में हुई सभा में शामिल हुए थे लेकिन चूंकि ये किसी न किसी तरह इसमें शामिल हुए लोगों के संपर्क में आए होंगे तो इन्हें सरकारी पृथक केंद्र में रखा गया है।’

उन्होंने बताया कि इन 78 लोगों में कुछ विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। श्रीरामुलु ने पहले बताया था कि तुमकुरु के सिरा के 60 वर्षीय उस व्यक्ति समेत 54 लोग धार्मिक सभा में शामिल हुए थे जिसकी हाल ही में मौत हो गई थी और उनमें से 13 की कोविड-19 जांच रिपोर्ट में वे संक्रमित पाए गए हैं।

इस बीच स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सेवाओं के आयुक्तालय ने कोविड-19 को फैलने से रोकने के प्रयासों के तहत सभी निजी अस्पतालों के लिए उनके यहां भर्ती हुए सांस संबंधी गंभीर बीमारी (एसएआरआई) वाले मामलों की जानकारी जिला निगरानी अधिकारी को देना अनिवार्य कर दिया है।

आयुक्तालय ने सार्स-सीओवी-2 के उपचार के लिए हाइड्रोक्लोरोक्विन दवाओं के प्रयोगसिद्ध इस्तेमाल की अनुशंसा की है और सभी उपायुक्तों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि यह दवा स्वास्थ्य कर्मियों को उपलब्ध हो। वहीं, कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर बेंगलूरु में धारा 144 मंगलवार आधी रात से 14 अप्रैल तक बढ़ा दी गई है।

बेंगलूरु पुलिस आयुक्त भास्कर राव ने कहा कि इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए बेंगलूरु शहर के आयुक्तालय के अधिकार क्षेत्र में सख्त कदमों को लागू करना अनिवार्य हो गया था। निषेधाज्ञा आदेश में आवश्यक सेवाओं जैसे कि रक्षा, पुलिस बल, सार्वजनिक सुविधाओं, बिजली, साफ-सफाई, एपीएमसी मंडियों, अस्पतालों और परिवहन सेवाओं को छूट रहेगी। आयुक्त ने कहा कि सभी स्कूल तथा प्रार्थना स्थल बंद रहेंगे।