कहा- कर्नाटक सरकार कर रही मदद, राजस्थान सरकार भी बढ़ाए हाथ

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) लहर सिंह सिरोया ने शनिवार को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर प्रवासी मजदूरों की वापसी का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि प्रवासी मजदूरों को काफी दिक्कतें हो रही हैं, लिहाजा इस ओर तुरंत ध्यान दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कर्नाटक, निर्माण और अन्य क्षेत्रों में काम करने वाले राजस्थान के हजारों प्रवासी मजदूरों का घर है। कोरोना महामारी को रोकने के प्रयासों के तहत लगाए गए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में अनेक मजदूर तकलीफों का सामना कर रहे हैं।

लहर सिंह सिरोया ने कहा कि कर्नाटक सरकार कई गैर-सरकारी संगठनों, उद्यमियों और राजस्थानी व्यापारी संघों के सहयोग से कड़ी मेहनत और अथक प्रयास कर रही है ताकि उन्हें भोजन, आश्रय और चिकित्सा सहायता प्रदान की जा सके।

उन्होंने कहा कि घबराहट और चिंता की वजह से, उनमें से कई अपने परिवार के साथ घरों को लौटना चाहते हैं। उनकी भावनाओं को स्वीकार करते हुए, कर्नाटक सरकार ने संकट के इस समय में इन मजदूरों को राजस्थान में उनके परिवारों के साथ मिलाने में मदद करने का फैसला किया है।

लहर सिंह सिरोया ने कहा कि मजदूरों की इच्छाओं और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए, हमारी सरकार परिवहन की व्यवस्था करने और उनके घर लौटने में मदद करने के लिए अन्य सुविधाओं का ध्यान रखने को लेकर तैयार है।

सिरोया ने प्रवासी मजदूरों की ओर से अनुरोध किया कि उनकी वापसी की सुविधा के लिए अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि परिवहन सुविधा के लिए केंद्र सरकार हमें ट्रेन देने के लिए तैयार है। विधान परिषद सदस्य ने इस संबंध में आग्रह किया है कि तुरंत आवश्यक फैसला लिया जाए।