एलडीएफ और यूडीएफ ने केरल को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया: शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जनसभा को संबोधित करते हुए। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जनसभा को संबोधित करते हुए। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

कांजीरापल्ली/दक्षिण भारत। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को केरल के कांजीरापल्ली में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए एलडीएफ और यूडीएफ पर जोरदार हमला बोला। इस दौरान उन्होंने कहा कि केरल एक जमाने में विकास और टूरिज्म के मॉडल के रूप में, सबसे ज्यादा शिक्षित और शांतिप्रिय प्रदेश के रूप में जाना जाता था। लेकिन एलडीएफ और यूडीएफ ने केरल को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया है।

शाह ने कहा, कुछ पत्रकारों ने कहा कि केरल के मुख्यमंत्री कहते हैं कि ईडी भेदभाव के साथ जांच कर रही है। गोल्ड स्कैम का मुख्य आरोपी आपके कार्यालय में काम करता था या नहीं? आपकी सरकार ने मुख्य आरोपी को 3 लाख रुपए का मासिक वेतन दिया था या नहीं?

शाह ने कहा, मैं केरल की जनता को यह कहता हूं कि जिस राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय, उनके प्रधान सचिव, प्रधान सचिव द्वारा प्रमोट की गई महिला तस्करी में शामिल हों, उस मुख्यमंत्री को फिर से चुनने का क्या मतलब है?

शाह ने कहा कि एलडीएफ सरकार ने पूरे प्रशासन को अपनी कैडर में बदलने का काम किया है। अपनी पार्टी के कैडर को सरकारी पद दिलाने के लिए, पब्लिक सर्विस कमीशन को रिमोट कंट्रोल से ये लेफ्ट पार्टियां चलाती हैं।

शाह ने कहा कि अमृत योजना के तहत 1,100 करोड़ रुपए की लागत से शहरों को अपग्रेड करने का काम चल रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल हाईवे के लिए 65,000 करोड़ रुपए केरल के लिए देने का काम किया है। कोच्चि मेट्रो के विकास के लिए 1,957 करोड़ रुपए केंद्र सरकार ने भेजे हैं।

शाह ने कहा कि केरल में दो बार बाढ़ आई और 500 से अधिक लोगों ने जान गंवाईं। वामपंथी सरकार हमारी सेना को बहुत देर से बुलाती है, केवल अपने राजनीतिक लाभ के लिए। उन्हें केरल के लोगों के जीवन की परवाह नहीं है।

शाह ने कहा कि केरल में बदलाव लाने का समय आ गया है। ई. श्रीधरन जैसे वरिष्ठ ब्यूरोक्रेट भी भाजपा में शामिल हो रहे हैं क्योंकि वे जानते हैं कि केवल भाजपा प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में केरल को और विकसित करने में मदद कर सकती है।