मैसूरु: छेड़छाड़ की घटनाओं के खिलाफ आवाज उठा रहीं लड़कियां, शुरू किया मीटू आंदोलन

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

मैसूरु/दक्षिण भारत। शहर में लड़कियां और महिलाएं बड़ी संख्या में बाहर आ रही हैं और मैसूरु की सड़कों पर ईव-टीज़ या छेड़छाड़ से परेशान होने के अपने अनुभव साझा कर रही हैं। मीटू की तर्ज पर शहर में एक आंदोलन शुरू हुआ है, जहां कई युवा लड़कियों और महिलाओं ने अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर, पिछले कई दिनों से मैसूरु में प्रमुख सार्वजनिक स्थानों पर उनपर हुई पीड़ा को साझा करना शुरू कर दिया है।

यह सब तब शुरू हुआ जब एक शहर के कॉलेज में बीएससी कर रही एक छात्रा ने अपने भाई के अकाउंट से एक सोशल मीडिया पेज ‘मैसूरु मीम्स’ को एक संदेश भेजा। जिसमें छात्रा ने बताया कि उनके हॉस्टल के सामने खड़े होकर लड़के उन्हें परेशान करते हैं और लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार कर रहे थे। छात्रा ने मदद की गुहार लगाई और इस मुद्दे को संबंधित अधिकारियों के ध्यान में लाने की अपील की।

इसके बाद, डीसीपी डॉ प्रकाश गौड़ा ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया। इस प्रकरण के बाद, सोमवार से कई युवा लड़कियों और महिलाओं ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर इसी तरह के अनुभव सुनाते हुए पुलिस को ऐसे बदमाशों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

बताया गया कि पोस्ट वायरल होने के बाद, कई लड़कियों ने इसी तरह की कहानियां साझा कीं। कम से कम दस लड़कियों ने इसी तरह के उदाहरण साझा किए, जहां उन्हें सार्वजनिक स्थानों पर कई अज्ञात लड़कों द्वारा परेशान किया गया था। हमने संबंधित विभाग को प्राप्त जानकारी देने का फैसला किया है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए अधिकारियों से अपील की।

कुछ संगठनों और व्यक्तियों ने भी घटना के बाद पुलिस को एक ज्ञापन सौंपना शुरू कर दिया है। नगर सचिव प्रजना कश्यप के नेतृत्व में एबीवीपी के एक प्रतिनिधिमंडल ने डीसीपी (अपराध और यातायात) गीता प्रसन्ना को फोन किया और लड़कियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक ज्ञापन सौंपा।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि लड़कियां अगर इस तरह के उत्पीड़न का सामना करती हैं तो उन्हें हमें सतर्क करना चाहिए या सूचना तुरंत ‘112’ पर देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित करेंगे कि अपराधी पकड़े जाएं और उन पर महिलाओं और अन्य संबंधित आईपीसी की धाराओं का मामला दर्ज किया जाए।