स्कूलों में छात्र संख्या बढ़ने के साथ बरती जा रही एहतियात

प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कक्षा 9 और 11 खुलने के साथ इस बात को लेकर एहतियात बरती जा रही है कि मास्क एवं दूरी संबंधी नियमों का पूरी तरह पालन किया जाए। इससे पहले 10वीं और 12वीं कक्षाओं को दुबारा शुरू किया गया था। इसीलिए शिक्षा विभाग स्कूल में लंच ब्रेक के दौरान सामाजिक दूरी को बनाए रखने के लिए ब्रेक को अलग अलग भागों में बांटने पर विचार कर रहा है।

अधिकारियों ने बताया कि ब्रेक को विशिष्ट कक्षाओं के लिए कई भागों में बांटा जाएगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी छात्र एक ही समय में एक साथ न आएं। छात्रों की क्षमता के बारे में स्कूलों से पहले ही संपर्क किया जा चुका है। निजी स्कूलों ने सहमति व्यक्त की है कि वे छात्रों के लिए कमरों की संख्या बढ़ाएंगे ताकि एक जगह भीड़ न हो।

विभाग उम्मीद कर रहा है कि कक्षा 9 और 11 के करीब 60 फीसदी छात्र स्कूल आएंगे। अधिकारियों ने कहा कि इसके लिए बुनियादी ढांचे को आगे बढ़ाने की आवश्यकता नहीं होगी क्योंकि कई स्कूलों में प्राथमिक स्कूल की कक्षाएं हैं जो फिलहाल काम नहीं आ रही हैं।

इसके अलावा कक्षा 9 और 11 के शिक्षकों का कोविड-19 टेस्ट किया जा रहा है। बीबीएमपी आयुक्त एन मंजूनाथ प्रसाद ने कहा कि छात्रों की संख्या बढ़ने से बीबीएमपी स्कूलों में सामाजिक दूरी के मानदंडों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।