अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ निवेश पर ध्यान केंद्रित कर रहा रेलवे

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

रेलवे बोर्ड के वित्त सदस्य नरेश सालेचा ने किया बेंगलूरु का दौरा

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। रेलवे बोर्ड के वित्त सदस्य एवं भारत सरकार के पूर्व पदेन सचिव नरेश सालेचा ने शनिवार को बैयप्पनहल्ली में सर एम. विश्वेश्वरैया टर्मिनल का दौरा किया। बाद में, उन्होंने बेंगलूरु में मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में मीडिया को संबोधित किया।

उन्होंने कहा कि शीघ्र ही नए टर्मिनल का उद्घाटन किया जाना है, जिसे सभी आधुनिक सुविधाओं, एयर कंडीशन सिस्टम और हरित पहल के साथ विकसित किया गया है। उन्होंने कहा कि टर्मिनल में उपलब्ध लाउंज, रेस्ट रूम और अन्य सुविधाएं यात्रियों को हवाईअड्डे जैसा अहसास कराती हैं।

भारतीय रेलवे के प्रदर्शन का उल्लेख करते हुए सालेचा ने कहा कि सितंबर 2020 से प्रत्येक महीने में माल ढुलाई लोड राष्ट्रीय लॉकडाउन के बावजूद काफी अधिक है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी और उसके परिणामस्वरूप स्वास्थ्य प्रोटोकॉल के कारण प्रभावित होने वाले यात्री क्षेत्र में कमाई की संभावना अब बढ़ रही है।

उन्होंने बताया कि रेलवे देश में स्टेशनों को अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ विकसित करने के लिए बुनियादी ढांचे पर बड़े पैमाने पर निवेश पर ध्यान केंद्रित कर रहा है और 2050 तक राष्ट्र के उपयोग के लिए तैयार कर रहा है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अवसंरचना पाइपलाइन (एनआईपी) के अनुसार, देश में बुनियादी ढांचे के विकास के लिए 111 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया जाना है, जिसमें से रेलवे द्वारा 13 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा।

समय की पाबंदी, सुरक्षा, सफाई व्यवस्था में सुधार
सालेचा ने कहा कि हाल के दिनों में समय की पाबंदी, सुरक्षा और ट्रेनों की सफाई में सुधार दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि कृषि और उपभोग वस्तुओं के परिवहन के वास्ते किसानों की सुविधा के लिए शुरू की गई किसान रेल को अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

उन्होंने बताया कि जनवरी 2018 से आईसीएफ कोचों का निर्माण बंद कर दिया गया है। उन्हें कई ट्रेनों में एलएचबी कोचों से बदला जा रहा है। उन्होंने बेंगलूरु डिवीजन के बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट और डिवीजन द्वारा प्रदान की गईं यात्री सुविधाओं के प्रदर्शन की सराहना की। उन्होंने समय सीमा के भीतर सभी परियोजनाओं को तेजी से पूरा करने में दक्षिण पश्चिम रेलवे की निर्माण इकाई के प्रयासों को सराहा।

बाद में, नरेश सालेचा ने बेंगलूरु डिवीजन के अधिकारियों के साथ बैठक की और डिवीजन के समग्र प्रदर्शन की सराहना की। इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक अशोक कुमार वर्मा, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी निर्माण केसी स्वामी, दपरे की वित्तीय सलाहकार और मुख्य लेखा अधिकारी रूपा श्रीनिवासन और बेंगलूरु डिवीजन के अधिकारी उपस्थित थे।