राज्यसभा की दौड़: किस पर दांव लगाएगी द्रमुक?

फोटो स्रोतः द्रमुक का फेसबुक पेज।
फोटो स्रोतः द्रमुक का फेसबुक पेज।

चेन्नई/दक्षिण भारत। तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के बाद अब पार्टियां राज्य में तीन सीटों के लिए होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए जोर-आजमाइश की तैयारी में हैं। हालांकि चुनाव तारीखों की घोषणा की जानी बाकी है। इस बीच उन चेहरों को लेकर कयास लगाए जाने शुरू हो गए हैं जिन पर सत्तारूढ़ द्रमुक द्वारा राज्यसभा भेजे जाने के लिए दांव लगाया जा सकता है।

इनमें से पहली सीट मार्च 2021 में अन्नाद्रमुक के राज्यसभा सदस्य मोहम्मदजान के निधन से खाली खाली हो गई थी। इसी प्रकार, दूसरी सीट अन्नाद्रमुक के उपसंयोजक केपी मुनुसामी के इस्तीफे के कारण खाली हुई। उन्होंने कृष्णागिरि से विधानसभा चुनाव लड़ा और जीतने पर राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया। तीसरी सीट आर वैथियालिंगम के इस्तीफे के कारण खाली हो गई। उन्होंने ओरथानाडु से चुनाव लड़ा और जीतने पर राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया।

आश्वासन और शर्तों का चक्रव्यूह
सूत्रों के अनुसार, विधानसभा चुनाव से पहले ही द्रमुक और कांग्रेस के बीच उक्त सीटों के बंटवारे पर चर्चा हुई थी, जिसमें कांग्रेस ने एक सीट की मांग की थी। हालांकि इस पर द्रमुक की ओर से कोई ठोस आश्वासन नहीं दिया गया और कई शर्तें रखी थीं। अब, कांग्रेस नेताओं का एक वर्ग राज्यसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद को तमिलनाडु से नामित करने की मांग कर रहा है।

चर्चा में इन नेताओं के नाम
वहीं, दो खाली सीटों के लिए चार द्रमुक नेताओं थंगा तमिल सेलवन, कार्तिकेय शिवसेनापति, डॉ. कनिमोझी सोमू और सुब्बुलक्ष्मी जगदीसन के नाम सबसे आगे चल रहे हैं। खबर है कि पार्टी के भीतर इनके कई समर्थकों ने पहले ही पैरवी करनी शुरू कर दी है। उनके अलावा कई नेता जो विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट नहीं पा सके, वे दावेदारी कर सकते हैं। यही नहीं, कुछ नेता ऐसे भी हैं जो विधानसभा चुनाव में अन्नाद्रमुक के दिग्गज चेहरों से मुकाबला करते हुए हार गए, वे राज्यसभा के लिए टिकट मांग रहे हैं।

जो अन्य नाम चर्चा में हैं, उनमें तमिलनाडु विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष आर अवदयप्पन और पूर्व पर्यटन मंत्री एन सुरेश राजन शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि थंगा तमिल सेलवन ने बोदिनायकनूर विधानसभा क्षेत्र में पूर्व उपमुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम को हराया था और थेनी जिले के चर्चित नेता हैं। वे द्रमुक में आने से पहले अन्नाद्रमुक और एएमएमके में रहे हैं।

डॉ. कनिमोझी सोमू द्रमुक की राज्य चिकित्सा विंग सचिव और पार्टी प्रवक्ता भी हैं। वे टीवी डिबेट में शामिल होती हैं। इस दौड़ में सबसे वरिष्ठ नेता सुब्बुलक्ष्मी जगदीसन हैं। वे कपड़ा, लघु उद्योग, उत्पाद शुल्क, सामाजिक कल्याण मंत्री के रूप में कई मंत्रिमंडलों में काम कर चुकी हैं और संप्रग सरकार के समय सामाजिक न्याय राज्य मंत्री भी रही हैं।