मुगल काल के दुर्लभ सिक्के ने बनाया मालामाल, इतने में बिका!

प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। मुगल काल के एक सिक्के ने उसके मालिक को मालामाल कर दिया। दरअसल यह एक दुर्लभ सिक्का है जो 56 लाख रुपए में बिका है। जानकारी के अनुसार, यह सिक्का एक नीलामी स्थल पर नीलाम किया गया, जिस पर कई लोगों की निगाहें थीं।

नीलामी का आयोजन मरुधर आर्ट्स द्वारा किया गया था। इसके अधिकारियों ने बताया कि नीलामी में दुर्लभ सिक्के पेश किए गए जिनको लेकर देश—विदेश के लोगों में आकर्षण रहा है।

उक्त सिक्का एक गैर-कन्नडिगा भारतीय ने हासिल किया। यह मुगल शासक काम बख्श द्वारा जारी किया गया था जो औरंगजेब का पांचवां बेटा था। सिक्के का वजन 10.9 ग्राम है। यह सोने से निर्मित है।

यह सिक्का बीजापुर की दार-उज़-ज़फ़र टकसाल में ढाला गया था। इस पर संबंधित जानकारी फारसी में लिखी गई है। सिक्के की जो खूबी उसकी कीमत बढ़ाती है, वह भी कम दिलचस्प नहीं है। दरअसल यह मुद्रा के रूप में जनता के बीच प्रचलित नहीं किया गया था। ऐसे में निश्चित रूप से यह उस दौर के प्रभुत्वशाली लोगों के पास रहा होगा।

विशेषज्ञों के अनुसार, यह सिक्का इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि उक्त मुगल विजयपुरा, गोकक, हैदराबाद से कई सिक्के ढालने के लिए प्रसिद्ध था। सिक्के से कुछ ऐसी ऐतिहासिक बातें जुड़ी हैं जिससे यह अनूठा और दुर्लभ होने का दर्जा पा जाता है।

काम बख्श अपने राज्य का विस्तार करने में जुटा था। उसने कई युद्ध लड़े थे। इसी सिलसिले में उसने 1707 में बीजापुर का किला फतह कर लिया था। बता दें कि औरंगजेब की मौत सन् 1707 में हुई थी।