भारतीय रेलवे। फोटो स्रोत: PixaBay
भारतीय रेलवे। फोटो स्रोत: PixaBay

हैदराबाद/दक्षिण भारत। दक्षिण मध्य रेलवे ने नए साल में स्वर्णिम चतुर्भुज और स्वर्णिम कोणीय (जीक्यू-जीडी) रूट पर ट्रेनों की अधिकतम गति को उल्लेखनीय रूप से बढ़ाकर 130 किमी प्रति घंटा करके ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की है।

यह विजयवाड़ा-दुव्वाडा खंड को छोड़कर, जहां सिग्नल अप-ग्रेडेशन का कार्य प्रगति पर है, दक्षिण मध्य रेलवे के समस्त जीक्यू-जीडी रूट को कवर करती है।

यह संवर्धित गति सीमा तेज गति से इन खंडों में बाधाओं को हटाने के द्वारा ट्रैक एवं इसकी अवसंरचना की व्यवस्थित और नियोजित सुदृढ़ीकरण के जरिए अर्जित की जा सकी है। इसमें भारी छड़ों, 260 मीटर लंबे वेल्डेड रेल पैनल बिछाने, मोड़ एवं ढलानों में सुधार शामिल थे।

जोन ने सभी आवश्यक अवसंरचना अपग्रेडेशन कार्यों को पूरा करने के लिए पिछले साल महामारी के कारण लॉकडाउन अवधि एवं रेलगाड़ियों की कम आवाजाही के अवसर का उपयोग किया है।