कोरोना काल में मुश्किल के बीच दक्षिण रेलवे ने माल और पार्सल राजस्व में दर्ज की बढ़ोतरी

प्रतीकात्मक चित्र।
प्रतीकात्मक चित्र।

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कोरोना महामारी के चुनौतीपूर्ण हालात के बीच दक्षिण रेलवे ने अपनी बेहतर रणनीति के साथ माल और पार्सल यातायात को महत्वपूर्ण प्रोत्साहन देते हुए राजस्व में बढ़ोतरी दर्ज की है। वित्त वर्ष 2021-22 के पहले दो महीनों में दक्षिण रेलवे ने अपने माल और पार्सल राजस्व में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज करते हुए नई उपलब्धि हासिल की है। पिछले वित्त वर्ष की तुलना में अप्रैल और मई 2021 में पार्सल और माल ढुलाई से संचयी आय में क्रमशः 331.58 प्रतिशत और 52.89 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। अप्रैल और मई 2021 के दौरान माल ढुलाई से 427.35 करोड़ रुपए और पार्सल यातायात से 14.92 करोड़ रुपए की कमाई हुई।

इस संबंध में मुख्य जनसंपर्क अधिकारी बी गुगनेसन ने बताया कि माल ढुलाई के मोर्चे पर, अप्रैल-मई 2021 के दौरान 5.324 मिलियन टन लदान किया गया, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1.357 मीट्रिक टन (34.2 प्रतिशत) अधिक है। अप्रैल-मई 2021 के दौरान 1,756 रेक का संचालन किया गया जो अप्रैल-मई 2020 की तुलना में 402 रेक अधिक है। लदा हुआ माल भी रेलवे बोर्ड द्वारा निर्धारित लक्ष्य से 0.244 मीट्रिक टन अधिक हो गया है। दक्षिण रेलवे के फ्रेट बास्केट में कोयला, इस्पात संयंत्रों के लिए कच्चा माल, लोहा और इस्पात, सीमेंट, खाद्यान्न, उर्वरक, पेट्रोलियम उत्पाद, ऑटोमोबाइल, कंटेनर और अन्य शामिल हैं।

कोयला, लोहा और इस्पात, सीमेंट, उर्वरक और पीओएल उत्पादों जैसी वस्तुओं में पिछले वर्ष की तुलना में लदान में वृद्धि दर्ज की गई। अप्रैल-मई 2021 के दौरान 837 रेक में 3.193 मीट्रिक टन कोयला लोड किया गया था। यह अप्रैल-मई 2020 में कोयले की लदान की तुलना में 47.68 प्रतिशत अधिक है जो 2.162 मीट्रिक टन (568 रेक) था। अप्रैल-मई 2021 के दौरान लोड की गईं अन्य वस्तुओं में, लौह और इस्पात 0.048 मीट्रिक टन (6.6 प्रतिशत वृद्धि), सीमेंट 0.229 मीट्रिक टन (65.94 प्रतिशत वृद्धि), उर्वरक 0.579 मीट्रिक टन (24.51 प्रतिशत वृद्धि), पीओएल उत्पाद 0.546 मीट्रिक टन (34.81 प्रतिशत) वृद्धि) में भी अप्रैल-मई 2020 की तुलना में वृद्धि देखी गई।

ऑटोमोबाइल सेगमेंट में, दक्षिण रेलवे ने अप्रैल-मई 2021 के दौरान 18,742 टन परिवहन किया है और यह पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान परिवहन की गई मात्रा से 135 प्रतिशत अधिक है। अप्रैल-मई 2021 के दौरान कुल 801 वैगन वाले 42 रेक का परिवहन किया गया। अप्रैल-मई 2021 के दौरान दक्षिण रेलवे का संचयी माल ढुलाई राजस्व 427.35 करोड़ रहा, जो अप्रैल-मई 2020 की तुलना में 52.89 प्रतिशत अधिक होकर 279.52 करोड़ था।

अप्रैल-मई 2021 के दौरान पार्सल परिवहन के क्षेत्र में दक्षिण रेलवे ने 29376.5 टन लोड किया, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 172.5 प्रतिशत की वृद्धि है जो 10780.4 टन था। संचयी पार्सल राजस्व सूचकांकों ने अप्रैल-मई 2021 में दक्षिण रेलवे के लिए 14.92 करोड़ रुपए की वृद्धि दर्ज की।

मालगाड़ियों की गति
दक्षिण रेलवे ने माल और यात्री ट्रेनों दोनों की गति बढ़ाने के लिए स्थायी गति प्रतिबंध को समाप्त करने, परिसंपत्तियों की विश्वसनीयता में सुधार, समपार फाटकों को समाप्त करने आदि जैसे कई कदम उठाए हैं। मई 2021 के महीने में, दक्षिण रेलवे की मालगाड़ियों ने 50.58 किमी प्रति घंटे की औसत गति दर्ज की और यह भारतीय रेलवे के सभी 17 क्षेत्रीय रेलवे में सबसे अधिक गति है।