दक्षिण पश्चिम रेलवे ने गोवा क्षेत्र में दोहरीकरण के साथ अंडरपास की सुविधा शुरू की

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। सौ साल पहले जब मौजूदा रेलवे ट्रैक बिछाए गए तो इनके दोनों ओर ज्यादा बसावट नहीं थी, खासकर वास्को-द-गामा और कैसल रॉक स्टेशनों के बीच। अब इन इलाकों के निवासियों को रेलवे ट्रैक पार करने में बहुत असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। अक्सर लेवल क्रॉसिंग के लिए कई किमी की यात्रा करनी पड़ती है। इस पहलू को ध्यान में रखते हुए, कर्चोरम, चंदोर और कामराल में तीन अंडरपास निर्माण की योजना बनाई गई है।

दक्षिण पश्चिम रेलवे ने लोंडा और वासो के बीच चल रहे दोहरीकरण के एक हिस्से में कर्चोरम, चंदोर और कामराल गांवों में तीन अंडरपास की सुविधा प्रदान की है, जो इन गांवों में और उसके आसपास सड़क उपयोगकर्ताओं के लिए राहत लेकर आए हैं। रेल विकास निगम लिमिटेड द्वारा बनाए जा रहे ये अंडरपास फरवरी में चालू किए गए।

पहला अंडरपास 3 फरवरी को, दूसरा 6 को और तीसरा 10 को क्रमशः कर्चोरेम, चंदोर और कामराल में लॉन्च किया गया था। अंडरपास के निर्माण के लिए यात्री परिवहन और माल ढुलाई दोनों को 5 घंटे के लिए निलंबित कर दिया गया था। इन अंडरपास का निर्माण सामान्य रेल यातायात, यात्री और कार्गो दोनों को निलंबित करने के बाद किया गया था, हर बार पांच घंटे के लिए जिस पर अनुमानित लागत 6.5 करोड़ रुपए थी। निर्माण की लागत के अलावा, ट्रेन सेवाओं को निलंबित करने के परिणामस्वरूप लगभग 3 करोड़ रु. का खर्चा आया।

हो रही असुविधा को ध्यान में रखते हुए, दक्षिण पश्चिम रेलवे ने इन आर्थिक परिणामों के बावजूद अंडरपास सुविधा प्रदान करने का काम किया है। ये अंडरपास रेल डबल ट्रैकिंग की ओवर-ऑल योजना का हिस्सा हैं, और अंडरपास को छोटे और मध्यम आकार के चार पहिया वाहनों को समायोजित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

शुरू किए गए तीन अंडरपास में से, कामराल गांव में एक हिस्से को सबसे बड़ी राहत प्रदान करेगा, जिसमें 60/70 घर पिछले कई वर्षों से रेलवे लाइन और एक नदी के बीच स्थित थे, जिससे लोगों को काफी दिक्कतें होती थीं। सभी आवश्यक वस्तुओं को लंबे मार्ग से या रेल लाइन के पार पहुंचाना जो असुरक्षित था इस अंडरपास के निर्माण के साथ, अब 4 पहिया वाहनों को गांव के मुख्य हिस्से में ले जाना संभव है। इसी प्रकार, चंदोर और कर्चोरम के लोगों के लिए, अंडरपास बड़ी राहत प्रदान करेंगे।