तमिलनाडु: वैकल्पिक सुविधा के साथ 10वीं और 12वीं का पाठ्यक्रम जारी

प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

चेन्नई/दक्षिण भारत। तमिलनाडु सरकार ने रविवार को लंबे इंतजार के बाद कक्षा 10 और 12 के पाठ्यक्रम से लगभग एक तिहाई हिस्से को वैकल्पिक कर दिया है।

अक्टूबर में शिक्षा मंत्री ने घोषणा की थी कि कुल सिलेबस से लगभग 40 प्रतिशत हिस्से की वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी जिसके बाद स्टेट काउंसिल फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एससीईआरटी) को प्राथमिकता के आधार पर सिलेबस का विभाजन सावधानीपूर्वक करने के आदेश दिए थे।

पाठ्यक्रम को अब अनिवार्य और वैकल्पिक भागों में विभाजित किया गया है। छात्र परीक्षा की तैयारी के दौरान पाठ्यक्रम के वैकल्पिक हिस्से को पढ़ना छोड़ सकते हैं।

स्कूल शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने बताया, हमने प्रत्येक विषय में एक तिहाई अध्यायों को सीधे तौर पर हटाने के बजाय कई अध्यायों में से एक विशेष हिस्से को वैकल्पिक किया है जिससे छात्रों को विषय की व्यापक समझ बनाने में आसानी होगी।

गौरतलब है कि देशव्यापी लॉकडाउन के कारण मार्च से देशभर के स्कूल बंद कर दिए गए थे, हालांकि कक्षाएं ऑनलाइन माध्यमों के जरिए आयोजित की जाती रही हैं।

मगर इस दौरान स्कूलों को अपने पाठ्यक्रम को तय समय में पूरा कर पाने में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था और सरकारी और निजी दोनों स्कूलों के शिक्षकों ने इस शैक्षणिक वर्ष के लिए पाठ्यक्रम को कम करने पर जोर दिया था।

मालूम हो कि सरकार ने मंगलवार से कक्षा 10 और 12 के छात्रों की ऑफलाइन कक्षाएं लगाने के आदेश जारी कर दिए हैं। वहीं नए पाठ्यक्रम की सूची सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियों को भेजी गई है जहां से इसे सभी स्कूलों में भेजा जाएगा।