प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

पति-पत्नी और बेटे को उतारा मौत के घाट, शरीर पर गोलियों के निशान

चेन्नई/दक्षिण भारत। चेन्नई के सोकर्पेट में बुधवार शाम को एक परिवार के तीन सदस्य मृत पाए गए। उनके शरीर पर गोली लगने के निशान थे। मामले की जांच में जुटी पुलिस ने शक जताया है तीनों की हत्या आपसी झगड़े में किसी ​संबंधी ने की है।

मृतकों के नाम डालीचंद (74), उनकी पत्नी पुष्पा बाई (70) और उनका बेटा शीतल (42) हैं, जिनका ताल्लुक राजस्थान के जावल से था। पुलिस के अनुसार, डालीचंद फाइनेंसिंग फर्म चलाया करते थे और यह परिवार यहां विनयग माएस्त्री स्ट्रीट स्थित एक अपार्टमेंट की पहली मंजिल पर रहता था।

जानकारी के अनुसार, जब डालीचंद की बेटी पिंकी, जो पास में ही रहती हैं, ने यहां फोन ​किया था। जब किसी ने फोन नहीं उठाया तो उन्हें चिंता हुई और वे यहां आईं तो तीनों को बेडरूम में मृत पाया।

उनसे सूचना मिलने के बाद पड़ोसियों ने पुलिस को बताया और एलिफेंट गेट पुलिस थाने से एक टीम घटनास्थल पहुंची। सूचना पर शहर पुलिस आयुक्त महेश कुमार अग्रवाल, उत्तरी चेन्नई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त ए. अरुण और संयुक्त पुलिस आयुक्त वी. बालाकृष्णन ने भी घटनास्थल का दौरा किया।

यहां मिले गोलियों के निशान
बताया गया कि डालीचंद की ठोड़ी पर गोली लगने से घाव पाया गया है। वहीं पुष्पा बाई के माथे पर घाव था। इसी प्रकार शीतल के सिर पर घाव मिला है। हत्यारों का पता लगाने के लिए फिंगरप्रिंट और फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। इसके अलावा खोजी श्वान को भी लाया गया। औपचारिकताएं पूरी करने के बाद तीनों शव पोस्टमार्टम के लिए राजकीय सामान्य अस्पताल भेज दिए गए।

रिश्तों में उलझी हत्याकांड की गुत्थी!
वहीं, मामले की जांच कर रही पुलिस के सामने रिश्तों की एक गुत्थी सामने आई है। जानकारी के अनुसार, शीतल की शादी पुणे निवासी जयमाला से हुई थी और उनके 13 एवं 11 साल की दो लड़कियां हैं।

शीतल से अनबन होने के बाद जयमाला अलग होकर बेटियों समेत मायके चली गईं। दोनों के बीच चेन्नई की परिवार अदालत में तलाक का मामला भी चल रहा है। जयमाला के परिवार द्वारा शीतल के परिवार से समझौते की मांग भी सामने आई है।

दूसरी ओर, एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि जयमाला के भाई विकास और कैलाश अक्सर डालीचंद के घर जाते और रुपयों की मांग करते थे। कुछ पड़ोसियों ने यह दावा कर शक और बढ़ा दिया है कि उन्होंने हाल में विकास और कैलाश को डालीचंद के परिवार के साथ बहस करते देखा था।

पुलिस इस हत्याकांड के राज़ का पर्दाफाश करने के लिए संदिग्धों की भूमिका की जांच कर रही है। साथ ही आसपास के इलाकों में लगे सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल रही है ताकि गुनहगारों को कानून के कठघरे में खड़ा किया जा सके।