चेन्नई। रविवार की रात से एक सरकारी महिला कॉलेज में उस समय तनाव व्याप्त हो गया जब कॉलेज के छात्रावास में रहने वाली १०० से अधिक छात्राएं रात का भोजन करने के बाद बीमार हो गई। अस्पताल के अधिकारियों को छात्राओं के बीमार होने के पीछे विषाक्त भोजन का सेवन करने का शक है।अन्ना सालै के निकट स्थित कैदे-ए-मिल्लत सरकारी कॉलेज फॉर विमेन की १०५ छात्राएं रविवार शाम को छात्रावास में परोसे गए भोजन को खाने के बाद उल्टी और दस्त करने लगीं। कुछ छात्राओं ने दावा किया कि भोजन में एक मरी हुई छिपकली पाई गई थी। भोजन में छिपकली के गिरने के कारण ही भोजन के विषाक्त होने की शंका जाहिर की जा रही है। खाने के तुरंत बाद, छात्राओं ने बेचैनी और मतली की शिकायत शुरू कर दी। कॉलेज प्रशासन को सतर्क कर दिया गया और छात्रों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया।लगभग ५७ छात्राओं को राजीव गांधी सरकारी अस्पताल (आरजीजीजीएच) में भर्ती कराया गया है जबकि ४८ छात्राओं को रेयापेटा सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कई छात्राओं का आउट पेशेंट वार्ड में इलाज कियागया और तबीयत में सुधार होने के बाद वापस छात्रावास भेज दिया गया। सूत्रों के अनुसार अभी १७ छात्राओं का आरजीजीजीएच और ४ छात्राओं का रॉयापेटा अस्पताल में इलाज चल रहा है। सोमवार की सुबह ग्रेटर चेन्नई निगम के स्वास्थ्य विभाग और राज्य खाद्य सुरक्षा विभाग की दो टीमों ने कॉलेज परिसर का निरीक्षण किया और परीक्षण के लिए भोजन के नमूने एकत्र किए। कॉलेज प्रशासन छात्रावास के भोजन में पाए जाने वाले छिपकली के बारे में छात्र के दावे की जांच कर रहा है।