शिवमोगा में अवैध खनन की न्यायिक जांच होनी चाहिएः सिद्दरामैया

फोटो स्रोतः सिद्दरामैया का ट्विटर अकाउंट
फोटो स्रोतः सिद्दरामैया का ट्विटर अकाउंट

शिवमोगा/दक्षिण भारत। शिवमोगा के पास हुनासोडु में हुए विस्फोट स्थल का विपक्ष के नेता सिद्दरामैया ने दौरा कर उच्च न्यायालय के जज द्वारा अवैध पत्थर खनन मामले में जांच की मांग की।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी विधानसभा सत्र के दौरान इस मुद्दे को उठाएगी। येडियुरप्पा और जिला प्रभारी मंत्री केएस ईश्वरप्पा को जिले में अवैध पत्थर खनन और हाल में हुए विस्फोट के दौरान हुईं मौतों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

सिद्दरामैया ने क्रेशर मालिक सुधाकर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने के अलावा मृतकों के परिवारों को 5 लाख रुपए का मुआवजा देने की मांग की।

सिद्दरामैया ने कहा कि सुधाकर 12 अप्रैल, 2019 को कल्लागुरु में लीज की जमीन पर क्रेशर चला रहा था और उसे लाइसेंस दिया गया था। पुलिस को उद्धृत करते हुए उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश के सप्लायर ने खुद सुधाकर को विस्फोटक पहुंचाया।

वहीं सुधाकर ने विस्फोटक लाने के बाद पुलिस, राजस्व या खदानों और भूविज्ञान विभागों को सूचित नहीं किया था और न ही इसके लिए लाइसेंस प्राप्त किया था। कोई भी अधिकारी नहीं जानता कि विस्फोटकों में धमाका कैसे हुआ? पुलिस को संदेह है कि यह तब हो सकता है जब विस्फोटकों को किसी अन्य स्थान पर ले जाया जा रहा हो।

उन्होंने कहा कि इस मामले में सच तभी सामने आएगा जब उच्च न्यायालय के किसी सिटिंग जज से इसकी जांच करवाई जाए। उन्होंने कहा कि जांच से पता चलेगा कि जिले में कितने बेनामी खनन कार्य चल रहे हैं। अगर उन्हें कांग्रेस सरकार के दौरान अनुमति दी गई थी तो उनकी भी जांच की जानी चाहिए।