विश्व का सबसे लंबा प्लेटफॉर्म बनाने के लिए हुब्बली स्टेशन पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग के साथ यार्ड रिमॉडलिंग

दक्षिण पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक एके सिंह ने नई सिग्नलिंग प्रणाली के चालू होने के बाद पहली ट्रेन के लिए सिग्नल संचालित किए।
दक्षिण पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक एके सिंह ने नई सिग्नलिंग प्रणाली के चालू होने के बाद पहली ट्रेन के लिए सिग्नल संचालित किए।

हुब्बली/दक्षिण भारत। ‘श्री सिद्धारूढ़ स्वामीजी रेलवे स्टेशन हुब्बली’ एक महत्वपूर्ण जंक्शन स्टेशन और दक्षिण पश्चिम रेलवे मुख्यालय है। इस स्टेशन की एक लाइन में दावणगेरे/बेंगलूरु और गडग से दो लाइनें हैं तथा दूसरी तरफ लोंडा की ओर एक लाइन है जहां रेलवे लाइन की शाखाएं गोवा और महाराष्ट्र की तरफ जाती हैं।

गडग, दावणगेरे और लोंडा की ओर काम करने वाली सिंगल लाइन संकीर्ण जगह थी, जिसके कारण ट्रेनों को रोकने और भेजने में अवरोध आ जाता था। रेलवे स्टेशन शहर के बीचों-बीच स्थित है और दोनों ओर से सड़क संपर्क है।

यार्ड का व्यापक विस्तार संभव नहीं था क्योंकि उसकी जमीन खुली नहीं थी। साथ ही दक्षिण पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक के रूप में कार्यभार संभालने के बाद, हुब्बली स्टेशन के पहले निरीक्षण में अजय कुमार सिंह ने हुब्बली यार्ड को फिर से तैयार करने की जरूरत बताई है ताकि सभी ओर से आवागमन सुचारु हो।

हुब्बली स्टेशन में पांच प्लेटफॉर्म थे और बढ़ते यातायात को संभालने के लिए इन्हें बढ़ाने की आवश्यकता थी। चूंकि हुब्बली से लोंडा की ओर / स्टेशन रोड की तरफ कोई जगह नहीं थी, इसलिए यार्ड का विस्तार दावणगेरे / गडग की ओर किया गया।

यार्ड के रिमॉडलिंग के हिस्से के रूप में मौजूदा प्लेटफार्मों की निरंतरता में तीन नए प्लेटफॉर्म लंबाई की तरफ जोड़े गए हैं। इनमें से एक प्लेटफॉर्म 1,505 मीटर लंबाई के साथ दुनिया का सबसे लंबा प्लेटफॉर्म बनने जा रहा है। यह प्लेटफॉर्म नंबर 1, जो कि वर्तमान में 681 मीटर लंबा है। अब जोड़े जा रहे एक अन्य प्लेटफार्म की लंबाई 1,123 मीटर है।

दो प्रवेश द्वार के अलावा एक मुख्य प्रवेश द्वार और दूसरा गडग रोड पर एक और प्रवेश द्वार की योजना है। फुल यार्ड, सिगनलिंग, इलेक्ट्रिकल और तीसरे प्रवेश द्वार, इमारत आदि कार्यों पर 90 करोड़ की लागत आएगी। यार्ड रिमॉडलिंग का काम नवंबर 2019 में शुरू हुआ था।

श्री सिद्धारूढ़ स्वामीजी रेलवे स्टेशन पर अधिक संख्या में प्लेटफार्मों पर सुविधा बढ़ाने और ट्रेनों की आसान आवाजाही के लिए, यार्ड रिमॉडलिंग को अजय कुमार सिंह की उपस्थिति में इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग के साथ सफलतापूर्वक चालू किया गया।

इस अवसर पर विपुल कुमार, पीसीई / एसडब्ल्यूआर, अरविंद मालखेड़े, डीआरएम / यूबीएल, पीवी राजा शेखर, पीसीएसटीई / एसडब्ल्यूआर, अनिल पवित्रन, पीसीसीएम / एसडब्ल्यूआर, प्रेम नारायण, सीई / सीएन / यूबीएल और शांतिराम, सीएसटीई / सीएन उपस्थित थे।

एके सिंह ने नई सिग्नलिंग प्रणाली के चालू होने के बाद पहली ट्रेन के लिए सिग्नल संचालित किए। उन्होंने कहा कि हुब्बली यार्ड की क्षमता में जबरदस्त वृद्धि हुई है। साथ ही इससे मिलने वाले फायदों के बारे में विस्तार से बताया।