कोलकाता। भारत के टेस्ट विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा के कुछ साथियों को भले ही लगता हो कि अनिल कुंबले सख्त थे लेकिन उन्हें पूर्व कोच के बारे में ऐसा नहीं लगता। कुंबले ने कप्तान विराट कोहली के साथ विवाद के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। कुंबले को कोहली के साथ विचारों में मतभेद के बाद इस साल जून में इस्तीफा देने के लिए बाध्य होना प़डा था। पूर्व कप्तान कुंबले ने कोहली के साथ अपने रिश्ते को अस्थिर तक करार कर दिया था। साहा से जब पूछा गया कि कुंबले के बारे में उनकी क्या राय है तो उन्होंने पत्रकारों से कहा, मुझे उनका तरीका सख्त नहीं लगता था। कोच के तौर पर, उन्हें कहीं न कहीं तो सख्त बनना ही प़डता। कुछ को लगता है कि वह सख्त हैं जबकि कुछ को ऐसा महसूस नहीं होता। अनिल भाई के साथ मुझे ऐसा नहीं लगता था। साहा श्रीलंका से शुक्रवार को लौटे हैं जहां वह उस टीम का हिस्सा थे जिसने हाल में समाप्त हुई टेस्ट सीरीज में ३-० से जीत दर्ज की थी। इसके बाद उन्होंने फिर रवि शास्त्री और अनिल कुंबले की कोचिंग के तरीकों की तुलना की। उन्होंने कहा, अनिल भाई हमेशा चाहते थे कि हम ब़डा (४००, ५०० और ६०० रन) स्कोर बनाए और उन्हें लगता था कि प्रतिद्वंद्वी टीम को १५० से २०० रन के अंदर समेटा जा सकता है। जो हमेशा संभव नहीं होता। साहा ने कहा, वहीं दूसरी ओर रवि भाई, हमेशा हमें आक्रामक होने के लिए कहते हैं। वह कहते हैं जाओ और प्रतिद्वंद्वी टीम की गेंदों पर पार्क के चारों ओर हिट करो। मुझे सिर्फ यही अंतर दिखाई देता है। बाकी दोनों ही सकारात्मक बातें करते हैं। जब रवि भाई निदेशक थे तो वह आक्रामक थे। वह अपने नए कार्यकाल में वह इसमें ज्यादा रम गए हैं।